16 करोड़ से बने भवन की छत चार साल बाद ही टपकने लगी

जोगेंद्रनगर,संवादसहयोगी।मंडीजिलाकेजोगेंद्रनगरमिनीसचिवालयकेचारसालपुरानेभवनमेंबरसातसेपहलेपानीकेरिसावसेदीवारोंवछतोंपरदरारेंआनेसेइसकीगुणवत्तापरसवालउठनाशुरूहोगएहैं।खंडहरमेंतबदीलहोरहेभवनसेतीनविभागोंकेअधिकारीखौफजदाहैं।

16करोड़रुपयेकीलागतसेतैयारहोरहेमिनीसचिवालयभवनकेतीनब्लाककानिर्माणकार्यलोकनिर्माणविभागकीदेखरेखमेंपूराहोचुकाहै।28अगस्त,2017मेंतत्कालीनमुख्यमंत्रीवीरभद्रङ्क्षसहनेइसकाउदघाटनकियाथा।तबसेमिनीसचिवालयभवनमेंराष्ट्रीयराजमार्गप्राधिकरण,शिक्षाविभाग,नगरपरिषद,जलशक्तिविभागसहितएसडीएमकार्यालयकीसभीशाखाओंकासरकारीकामकाजहोरहाहै।उद्घाटनकेबादहीभवनकमरोंकेछोटेआकारकेकारणविवादोंमेंआगयाथा।अधिकारियोंनेकुछकमरोंकोतुड़वाकरअपनेलिएकमरेबनवाए।अबभवनकीअधिकांशमंजिलोंमेेंपानीकारिसावहोरहाहै।

एनएचएकोरिकार्डखराबहोनेकासतारहाहैडर

मिनीसचिवालयकीसबसेऊपरीमंजिलमेंसबसेअधिकहोरहेरिसावसेराष्ट्रीयराजमार्गविभागकोअपनेवर्षोंपुरानेरिकॉर्डखराबहोनेकाडरसतारहाहै।यहांपरअधिकांशकमरेबदहालस्थितिमेंहैं।इसकारणअधिकारियोंवकर्मचारियोंकोअपनाकामनिपटानामुश्किलहोरहाहै।

एसडीएमकार्यालयकेशौचालयकीछतमेंरिसावबनापरेशानी

मिनीसचिवालयकीपहलीमंजिलमेंएसडीएमकार्यालयकेशौचालयकीछतमेंपानीकारिसावहोरहाहै।शौचालयमेंइसस्थितिसेयहांकास्टाफपरेशानहै।इसकेअलावानगरपरिषदकेशौचालयकीछतभीटपकरहीहै।

मिनीसचिवालयकेभवनकीछतोंवदीवारोंमेंहोरहेरिसावकीशिकायतेंमिलीहैं।एसडीएमकार्यालयकेशौचालयकीछतसेरिसावरूकनहींरहाहै।कईबारभवनकीसुधलेनेकेलिएविभागकेअधिकारियोंकोदिशानिर्देशभीजारीकिएहैं।अधिकारियोंकीउदासीनतापरअबनियमानुसारकार्रवाईहोगी।

अमितमेहरा,एसडीएमजोगेंद्रनगर।

मैनेहालहीमेंलोकनिर्माणविभागकेअधिशाषीअभियंताकाकार्यभारसंभालाहै।मिनीसचिवालयकेभवनमेंहोरहेरिसावकामामलाध्यानमेंआयाहै।विभागकेअधिकारियोंकोहालातकाजायजालेकरविस्तृतरिपोर्टकार्यालयमेंप्रेषितकरनेकेआदेशजारीकिएजाएंगे।

संदीपकुमार,अधिशाषीअभियंतालोकनिर्माणविभागजोगेंद्रनगर।