40 साल बाद जाटलैंड की सियासत में बदलाव, पूर्व सांसद बिजेंद्र के बिना कांग्रेस चुनावी समर में उतरी

मनोजजादौन,अलीगढ़। UPAssemblyElections2022नामांकनप्रक्रियाकेबादसियासीमहारथीप्रत्याशीजितानेकेलिएपुख्तारणनीतितैयारकररहेहैं।40सालबादजाटलैंडकीसियासतमेंबदलावआयाहै।इगलासविधानसभाक्षेत्रसेकांग्रेससेतीनबारविधायकवएकबारसांसदरहेचौधरीबिजेंद्रसिंहकेबिनाकांग्रेसचुनावीसमरमेंहै।पिछलेसालपूर्वसांसदसिंहसपामेंशामिलहोगएथे।इसबारवेसपा-रालोदगठबंधनप्रत्याशीकेसमर्थनमेंप्रचारप्रसारकररहेहैं।

छात्रजीवनसेहीकांग्रेसकेकार्यकर्तारहेचौबिजेंद्रसिंह

चौ.बिजेंद्रसिंहछात्रजीवनसेहीकांग्रेसकेकार्यकर्तारहेथे।वेवर्ष1989मेंइगलासविधानसभाक्षेत्रसेपहलीबारकांग्रेससेविधायकनिर्वाचितहुए।तबउन्होंनेजनतादलकेचौ.राजेंद्रसिंहकोपराजितकियाथा।वर्ष1993मेंहुएविधानसभाचुनावमेंबिजेंद्रसिंहनेरामलहरमेंभाजपाकेविक्रमसिंहहिंडोलकोहरायाथा।इसकेबादवर्ष1996मेंबिजेंद्रसिंहकोभाजपाकेचौ.मलखानसिंहनेशिकस्तदी।2002मेंहुएविधानसभाचुनावमेंकांग्रेससेहीबिजेंद्रसिंहनेबसपाकेनरेंद्रकुमारदीक्षितकोपरास्तकिया।उससमयबसपाकीलहरमानीजारहीथी।वर्ष2004मेंलोकसभाचुनावमेंबिजेंद्रसिंहनेभाजपाकीलगातारचारबारसांसदरहींशीलागौतमकोहरादियाथा।वेकांग्र्रेससेचुनावलड़ेथे।सांसदबननेकेबादइगलाससेउन्होंनेपत्नीराकेशचौधरीकोचुनावमेंउतारा।मगरवहचुनावहारगईं।

...औरनहींथमाहारकासिलसिला

चौ.बिजेंद्रसिंहकावर्ष2005मेंहुएइगलासमेंहुएउपविधानसभाचुनावसेहारकासिलसिलाशुरूहुआहै।इनकीपत्नीराकेशचौधरीकोबसपाकेमुकुलउपाध्यायनेउपविधानसभाचुनावशिकस्तदीथी।वर्ष2007मेंराकेशचौधरीकांग्रेसकीदुबाराप्रत्याशीबनीं।इसबारइन्हेंरालोदकीविमलेशचौधरीनेपरास्तकिया।वर्ष2009मेंबिजेंद्रसिंहलोकसभाकाचुनावहारगए।इसकेबादइन्होंनेअतरौलीविधानसभासेचुनावलड़ा।इसचुनावमेंभीइन्हेंशिकस्तमिली।वर्ष2014व2019मेंभीकांग्रेसकेप्रत्याशीकेरूपमेंलोकसभाचुनावहारगएथे।