51 लाख खर्च फिर भी शुद्ध पेयजल नसीब नहीं

जागरणसंवाददाता,थलईपुर(मऊ):गांवोंमेंशुद्धपेयजलउपलब्धकरानेकेलिएसरकारकीतरफसेचलाईजारहीतमामयोजनाएंविभागीयउपेक्षासेऔंधेमुंहगिरतीगई।आजभीलोगशुद्धपानीकेलिएइधर-उधरभटकरहेहैं।शुद्धपानीनमिलनेसेजहांसंक्रामकबीमारियोंकेलोगशिकारहैंवहींकोरोनाकालमेंलोगकालकवलितभीहुएहैं।

इसीतरहविकासखंडरतनपुराकेगड़वागांवमेंबनी51लाखरुपयेखर्चकरबनाईगईपानीकीटंकीबेकारपड़ीहै।यहमात्रशोपीसबनीहुईहै।अभीतकआधेगांवमेंपाइपलाइनहीनहींबिछाईगईहै।

विगतकईवर्षोंमेंइसगांवमेंबड़ेपैमानेपरउत्पन्नहुएपेयजलकीसमस्याकोदेखतेहुएयहांपरपानीटंकीकेनिर्माणकाफैसलालियागया।इसकोलेकरग्रामीणोंमेंजबर्दस्तउत्साहथाकिअबउन्हेंशुद्धपेयजलमिलेगा।कितुउनकींउम्मीदेंविभागीयलापरवाहीकीभेंटचढ़गई।लापरवाहीऔरअनियमितताकाआलमयहहैकिगांवमेंपानीसप्लाईकरनेकेलिएपूरीतरहपाइपलाइनभीनहींबिछाईगईहै।जलनिगमकीअसंवेदनशीलताकेकारणपूरेगांवकेलोगपानीकेलिएपरेशानहै।पूर्वप्रधानमहेंद्रयादव,कोमलचौहान,विजयीराजभरआदिलोगोंनेजिलाप्रशासनसेमांगकीहैकिगांवकेपूरेघरोंमेंपानीकीसप्लाईदीजाए।

आपरेटरनहोनेसेनहीं

जलनिगमकेजेईरिजवानकेअनुसारटंकीनिर्माणकेबादगांवकेलगभग250घरोंमेंपानीकेकनेक्शनदेदिएगएहैं।बाकीघरोंमेंभीशीघ्रहीकनेक्शनदेदिएजाएंगें।पूर्वमेंपानीआपूर्तिकेलिएगांवकेहीएकव्यक्तिकोआपरेटरकेरूपमेंनियुक्तकियागयाथा।जिसनेकिन्हीकारणोंसेकुछहीदिनबादकार्यकरनाबंदकरदिया।आपरेटरनहोनेकेकारणपंपनहींचलपारहाहै।इसकेकारणपानीकीआपूर्तिनहींहोपारहीहै।पानीकीआपूर्तिबहालकरानेकेलिएउन्होंनेगांवकेहीकिसीअन्यव्यक्तिसेआपरेटरकेरूपमेंकार्यकरनेकीबाबतबातकीहै।नएग्रामप्रधानकेशपथलेतेहीटंकीकानियंत्रणग्रामपंचायतकेअध्यक्षहोनेकेनातेग्रामप्रधानकेनियंत्रणमेंआजाएगा।वेअपनेमाध्यमसेआपरेटरकीनियुक्तिकरेंगेऔरगांवमेंपेयजलआपूर्तिकीव्यवस्थाचलेगी।

नवनिर्वाचितप्रधान,उर्मिलादेवीकाकहनाहैकिशपथग्रहणकेबादउनकापूराप्रयासहोगाकिजल्दसेजल्दआपरेटरकीनियुक्तिकरगांवमेंपेयजलआपूर्तिबहालकीजाए।इसभीषणगर्मीकेमौसममेंलोगोंकोशुद्धपेयजलमुहैयाकरानाउनकीप्राथमिकताओंमेंशामिलहै।