अब भी ईंट- भट्ठों पर रहने को विवश हैं सैकड़ों बच्चे

रोहतास।लाखोंबच्चे,हजारोंसपने,सबकासमाधान,सिर्फसर्वशिक्षाअभियान।सरकारकायहनाराअबभीसैकड़ोंबच्चोंतकनहींपहुंचपाईहै।शायदयहीवजहहैकिइनबच्चोंकाबचपनईंटभट्ठोंपरअबभीअपनाभविष्यतलाशनेकोविवशहै।यहांतकशिक्षाविभागकेअधिकारीनहींपहुंचपाएहैं।इनबच्चोंकेलिएनतोशिक्षाकोईमायनेरखतीहैनहीदवा-दारू।इनकेमाता-पिताकीभविष्यभीदोजूनकीरोटीतलाशनेतकसिमटकररहगईहै।

जिलेकेजमुहार,कंचनपुर,खंडा,महदेवासमेतएकसौसेअधिकईटभट्ठे,जहांपररोजी-रोटीकीजुगाड़मेंआएसैकड़ोंपरिवारकेबच्चेयहांरहनेकोविवशहैं।श्रमविभागभीइनबच्चोंकेप्रतिउदासीनबनाहुआहै,जबकिएकस्वयंसेवीसंस्थाकीयाचिकापरमानवाधिकारआयोगवसुप्रीमकोर्टनेजिलेकेधौडाड,भरकोलसमेतअन्यचिमनीभट्ठोंपरकामकररहेबाहरीमजदूरोंवउनकेबच्चेकोसमुचितसुरक्षावसहायतादेनेकाआदेशछहमाहपूर्वदियाथा।इसकेबावजूदविभागकीतरफसेकोईअबतककोईपहलनहींकीजासकीहै।स्वास्थ्यविभागकीटीमपहुंचउन्हेंजानलेवाबीमारियोंसेबचानेकेकामलगीहै।इनदिनोंजिलेमेंजापानीइंफ्लाइटिसटीकाकरणअभियानकेतहतजेईटीकालगाउन्हेंस्वस्थवसुरक्षितरखनेकेलिएउनकेमाता-पिताकोप्रेरितकिया।यूनीसेफकेएसएमसीअसजदइकबालसागरकीमानेतोईंटभट्ठोंपरकामकरनेवालेपरिवारकेबच्चेभलेहीस्कूलसेदूररहेहो,लेकिनउन्हेंजानलेवाबीमारियोंसेबचानेकार्यकियाजारहाहै।नियमितटीकाकरणकेतहतइन्हेंजेईकाटीकादियागयाताकियेबच्चेमस्तिष्कज्वरयानीजापानीइंसेफ्लाइटिसबीमारीसेसुरक्षितरहसके।डेहरीप्रखंडकेजमुहारस्थितविभिन्नईंटभट्ठापरएकवर्षसे15सालतकके326बच्चोंकोजेईकाटीकालगायागया।इसमेंएएनएमरंजनाकुमारीवयूनीसेफकेबीएमसीसंजयअनुपमनेबच्चोंऔरउनकेमाता-पिताकोटीकाकेलाभऔरमहत्वसेअवगतकराया।