अप्रैल माह में ही खिसकने लगा जलस्तर, हांफने लगा चापाकल

कटिहार।प्रखंडक्षेत्रकेकईइलाकेमेंअप्रैलकेप्रथमसप्ताहमेंहीभू-जलस्तरनीचेखिसकनाशुरूहोगयाहै।प्रखंडक्षेत्रकीचांपीधार,कमलाधारसहितअन्यछोटीनदियांसूखनेलगीहै।स्थानीयलोगोंनेबतायाकिपहलीबारअप्रैलमाहमेंजलस्तरनीचेजानेतथाजलस्त्रोतसूखतादेखनेकोमिलरहाहै।कईजगहचापाकलभीजवाबदेनेलगाहै।कालसरपंचायतकेशिवकिशोरमंडल,हरिपुरगांवकेशंकरसाहआदिनेबतायाकिकुछदिनोंसेचापाकलसेपानीभीकमनिकलरहाहै।महमदियागांवकेप्रेमचंदविश्वासनेबतायाकि17से20फीटपरचापाकलसेअच्छापानीनिकलताथा,लेकिनअबबहुतकमपानीनिकलरहाहै।साथहीउसमेंलगाएकएचपीकामोटरपंपपानीदेनाबंदकरदियाहै।अबघरकेवाटरपंपकेलिए20फीटसेज्यादाबोरकरवानापड़ाहै।अगरजल्दबारिशनहींहोतीहैतोजलस्तरऔरभीनीचेखिसकसकताहै।राजवाड़ापंचायतकेमोहनसिंहनेभीचापाकलसेपहलेकीअपेक्षाअभीकमपानीनिकलनेकीबातकहतेहैं।कईग्रामीणोंनेबढ़तेतापमानकेसाथ-साथअंधाधुंधभूमिगतजलदोहनकोभीइसकाकारणबताया।ग्रामीणोंकाकहनाहैकिनदियोंमेंहोनेवालामखानाफसलकोक्षेत्रमेंकिसानवृहतपैमानेपरसमतलभूमिपरमेड़बनाकरलगायाहैजिसकेपटवनकेलिएसैकड़ोंकीसंख्यामेंमोटरपंपसेभूमिगतजलकादोहनकियाजारहाहै।समयरहतेजलसंरक्षणकीदिशामेंसहीकदमनहीउठायागयातोक्षेत्रमेंगर्मीकेमौसममेंजलसंकटकीस्थितिउत्पन्नहोसकतीहै।