बायोटेक्नोलॉजी विभाग बन सकता कोरोना जांच केंद्र

जागरणसंवाददाता,बोकारो:

बोकारोस्टीलसिटीकॉलेजकेबायोटेक्नोलॉजीविभागमेंउच्चस्तरीयप्रयोगशालाकानिर्माणकियागयाहै।यहांविद्यार्थियोंकोबीएससीबायोटेक्नोलॉजीकोर्सकीशिक्षाप्रदानकीजातीहै।विद्यार्थीप्रयोगशालामेंविषयसेसंबंधितप्रयोगकरतेहैं।इसप्रयोगशालाकोकोरोनाजांचकेन्द्रकेरूपमेंमेंविकसितकियाजासकताहै।इससेबोकारोवआसपासकेलोगोंकोकाफीलाभहोगा।इसकेमाध्यमसेशोधकोलेकरविद्यार्थियोंकीसोचकोभीविकसितकियाजासकताहै।

कोरोनाजांचमेंप्रयुक्तकियाजासकतापीसीआर

प्रयोगशालाआधुनिकसंसाधनोंसेलैसहै।यहपूरीतरहसेएयरटाइटववातानुकूलितहै।इसमेंपॉलिमेरेजचेनरिएक्शनअप्रेटस,पीसीआरउपलब्धहै।प्रोटीन,कार्बोहाइड्रेटसहितसभीप्रकारकेबायोकैमिकलमॉलेक्यूलकाएनालाइसिसकियाजाताहै।कोरोनाकिटकीमंजूरीमिलनेकेबादइसउपकरणकेमाध्यमसेयहांकोविड19कीजांचसंभवहोसकेगी।

बोकारोस्टीलसिटीकॉलेजबायोटेक्नोलॉजीविभागकेपूर्वविभागाध्यक्षवकोआर्डिनेटरडॉ.केकेमिश्रानेकहाकिबायोटेक्नोलॉजीमेडिकलसाइंसकीरीढ़है।मेडिसीनकीखोजएवंवैक्सीनबनानेकाकामइसीविभागकाहै।बोकारोस्टीलसिटीकॉलेजबायोटेक्नोलॉजीविभागकीप्रयोगशालाउन्नतहै।यहांकोरोनाकिटकीमंजूरीमिलनेकेबादकोविड19कीजांचसंभवहोसकतीहै।सरकारीस्तरपरइसप्रयोगशालाकोकोविड19जांचकेन्द्रकेरूपमेंविकसितकियाजासकताहै।इससेबोकारोजिलाएवंआसपासकेलोगोंकोलाभहोगा।

शोधकेलिएकियाजासकेगाप्रेरित

डॉ.केकेमिश्रानेकहाकिबायोटेक्नोलॉजीविभागकेविद्यार्थियोंकोदेशकेविभिन्नराज्योंकेबड़ेसंस्थानोंमेंप्रशिक्षणकेलिएभेजाजाताहै।यहांवेप्रशिक्षणहासिलकरतेहैं।बोकारोस्टीलसिटीबायोटेक्नोलॉजीविभागकेप्रयोगशालाकोविकसितकरनेपरविद्यार्थियोंकोशोधकेलिएभीप्रेरितकियाजासकेगा।इससेइनकाज्ञानविकसितहोगा।

देश-विदेशमेंलगाताररिसर्चजारीहै।वायरसबायोटेक्नोलॉजीविभागसेसंबंधितहै।कॉलेजकेबायोटेक्नोलॉजीविभागकेप्रयोगशालाकोविकसितकियाजासकताहै।यहांवैज्ञानिककीदेखरेखमेंशोधकार्यसंभवहै।कोरोनाकीजांचकेलिएविशेषज्ञकीटीमकासहयोगआवश्यकहै।

डॉ.एसकेशर्मा,प्राचार्य,बोकारोस्टीलसिटीकॉलेज