बह्माचारी पोखर के संरक्षण के लिए नहीं हो रही पहल

जिलामुख्यालयभभुआनगरकेवार्ड18मेंस्थितब्रह्माचारीपोखरपकेसंरक्षणकेप्रतिकिसीकेद्वाराकोईपहलनहींकीजारहीहै।नहीनगरपरिषदइसकेसंरक्षणकेप्रतिआगेआरहाहैऔरनहीस्थानीयलोग।पोखरकेपिडपरएकतरफरामजानकीमंदिरहै।जहांपूजा-अर्चनाकरनेकेलिएलोगसुबहशामआतेहै।बावजूदइसकेपोखरकेसंरक्षणकेप्रतिकोईध्याननहींहै।

जानकारीकेअनुसार,यहपोखरकाफीपुरानाहै।पोखरापरपूर्वमेंभभुआनगरकेगंवईमोहल्लेमेंरहनेवालेलोगोंकोकाफीलाभहोताथा।घरोंमेंपीनेसेलेकरहरतरहकेकार्यमेंब्रह्माचारीपोखरकेपानीकाउपयोगहोताथा।इसमेंपानीपूराभरारहताथा।आजस्थितियहहोगईहैकिगंदगीवअतिक्रमणसेपोखराकाफीप्रदूषितहोगयाहै।इसकेपानीकाउपयोगअबकिसीकार्यकेलिएनहींहोता।इसकेएकतरफपिडपरदोस्कूलहै,लेकिनआजतकइसकेचारोंतरफचारदीवारीनहींबनाईगई।इसकेचलतेपासकेस्कूलमेंपढ़नेवालेबच्चोंकोशिक्षक-शिक्षिकाखेलनेकेलिएबाहरनहींजानेदेते।गर्मीकेदिनोंमेंइसतालाबकापानीएकदमसूखजाताहै।इससेभभुआनगरकेवार्ड18,19,20,21वार्डोंमेंभू-जलस्तरभीनीचेचलाजाताहै।इनवार्डोंकेकुछवृद्धलोगोंसेपूछेजानेपरबतायागयाकिपूर्वमेंइसपोखरमेंकाफीपानीरहताथा।पासकेखेतोंमेंसिचाईहोनेकेबादभीपानीखत्मनहींहोताथा।मवेशियोंकोपानीपीलानेसेलेकरघरोंकेकईकार्योंमेंपानीकाउपयोगहोताथा।पूरेवर्षइसमेंपानीरहताथा।इससेजलस्तरभीसामान्यरहताथा।पिडपरलोगजाकरबैठतेथे,लेकिनअबइतनीगंदगीचारोंतरफहोगईहैकिकोईतालाबकेपासकुछदेरबैठनहींसकता।

क्याकहतेहैंलोग

अरूणसिंह-ब्रह्माचारीपोखरकाफीप्राचीनहै।यहांलोगपहलेआकरबैठतेथेऔरकाफीसमयतकआपसमेंबातचीतकरसमयव्यतीतकरतेथे।लेकिनअबगंदगीकेकारणइसरास्तेसेआना-जानामुश्किलहोगयाहै।पासमेंहीनालाबनायागयाहै।जिससेहमेशादुर्गंधआतीहै।फोटोनंबर-24

रामानंदसिंह-नगरकेराजेंद्रसरोवरकीतरहहीयदिअन्यतालाबोंकासुंदरीकरणकरायाजाएतोकाफीअच्छाहोगा।इससेतालाबोंकासंरक्षणहोगा।इससेतालाबोंकालोगअतिक्रमणनहींकरसकेंगेऔरनहीउसमेंगंदगीफेंकसकेंगे।इससेजलसंचयभीहोगा।क्याकहतेहैंईओ-

सरकारकीमंशाकेअनुसारशीघ्रहीनगरकेब्रह्माचारीपोखराकेसुंदरीकरणकाप्रयासकियाजाएगा।साथहीइसकेआसपासगंदगीफेंकनेवालेलोगोंकोचिह्नितकरउन्हेंऐसानहींकरनेकेबारेमेंकहाजाएगा।यदिइसकेबादभीनहींमानतेहैंतोउनकेविरुद्धकार्रवाईकीजाएगी।

-अनुभूतिश्रीवास्तव,ईओ,नगरपरिषद