बीमारी फैलाने वाले फंगस का इलाज खोजेगा Lucknow University, प्रोजेक्ट को शासन ने दी मंजूरी

लखनऊ,[अखिलसक्सेना]।लखनऊविश्वविद्यालयअबइंसानोंमेंबीमारीफैलानेवालेफंगस'कैंडिडाएलबिकांस'केउपचारकेलिएनईदवापरशोधकरेगा।इसकेलिएशासननेसेंटरऑफएक्सीलेंसयोजनाकेतहतविश्वविद्यालयकेबायोकेमेस्ट्रीविभागकेइसप्रोजेक्टकोमंजूरीदेदीहै।पहलेचरणमेंप्रोजेक्टशुरूकरनेकेलिएडेढ़लाखरुपयेदिएजाएंगे।दरअसल,दुनियामेंविभिन्नप्रकारकेफंगससंक्रमणकाकारणबनतेहैं,लेकिनइनमेंलोगोंकोसबसेज्यादाबीमारकरनेवालेफंगसएस्परजिलस,कृप्टोकॉकसऔरकैंडिडाएलबिकांसहैं।

लखनऊविश्वविद्यालयकेबायोकेमेस्ट्रीविभागकेएसोसिएटप्रोफेसरडॉ.आशुतोषस‍िंहबतातेहैंकिएचआइवीपीडि़त,शुगर,आगसेजलेहुएऔरकीमोथेरेपीकरानेवालेमरीजोंमेंरोगप्रतिरोधकक्षमताकमहोतीहै।अस्पतालोंमेंइनमरीजोंकोकैंडिडाएलबिकांसफंगससबसेज्यादानुकसानपहुंचाताहै।बाजारमेंइसफंगसकोरोकनेकेलिएबहुतसीदवाइयांहैं,लेकिनवेकमकारगरसाबितहोरहीहैं।दवाइयांज्यादालेनेपरमरीजोंकोनुकसानपहुंचताहै।इसलिएइसशोधमेंदवाकेदूसरेविकल्पपरकामकियाजाएगा।ऐसीदवाईयाउसकेमिश्रण(काम्बीनेशन)परशोधकरेंगे,जोसटीकतरीकेसेफंगसकोखत्मकरसके।डॉ.समीरशर्माकेसाथमिलकरयहशोधतीनसालमेंपूराकरनेकालक्ष्यहै।

लैबमेंकरेंगेड्रगटेस्टि‍ंंग

डॉ.आशुतोषसि‍ंहकेमुताबिककैंडिडाएलबिकांसकाइलाजखोजनेकेलिएड्रगटेङ्क्षस्टगकीजाएगी।इसकेलिएबायोकेमेस्ट्रीविभागमेंविशेषलैबहै।इसमेंमरीजोंकोअस्पतालोंमेंदीजानेवालीऔरबाहरबिकनेवालीदवाइयोंकीभीटेस्टि‍ंंगकरेंगे।

शोधबताएगाआर्टीफिशियलइंटेलिजेंससेकितनेलोगजागरूक

शासननेलविविकेएमबीएविभागकेलिएभीसेंटरऑफएक्सीलेंसयोजनाकेतहतएकप्रोजेक्टकोमंजूरीदीहै।विभागकीडॉ.रितुनारंगबतातीहैंकिइसप्रोजेक्टमेंआर्टीफिशियलइंटेलिजेंसतकनीककेप्रतिबाजारकेछोटेदुकानदारकितनेजागरूकहैं,इसपरशोधकरेंगे।यूपीकेप्रमुखचुनेहुएशहरीक्षेत्रोंमेंदेखेंगेकिइन्हेंआर्टीफिशियलइंटेलिजेंसकेबारेमेंजानकारीहैयानहीं।कितनीक्षमताहै?इसकेलिएबाजारकोसमझनाहोगा।