चिकनी नदी में उद्योगों ने बहा दिया रसायनयुक्त पानी, नदी का रंग हुआ लाल

संवादसूत्र,नालागढ़:नालागढ़केसाथलगतीचिकनीनदीमेंउद्योगोंकारसायनयुक्तपानीमिलरहाहै।इससेनदीकेपानीकारंगलालहोगयाहै।इसनदीपरआइपीएचविभागकीसिचाईयोजनाएंभीहैं,जिससेपानीलिफ्टहोकरकिसानोंकेखेतमेंसिचाईकेलिएप्रयोगहोताहै।रसायनयुक्तपानीखेतोंमेंजानेसेफसलोंकोभीनुकसानहोनेकाखतराबढ़गयाहैसाथहीलोगोंकोभीबीमारियांलगनेकाखतराबनाहुआहै।

इतनाहीनहींनदियोंमेंबहनेवालायहगंदापानीजमीनमेंरिसावकेबादलोगोंकेपेयजलस्रोतोंतकपहुंचरहाहैऔरउसकासेवनलोगकररहेहैं।नालागढ़केसाथलगतीचिकनीनदीमेंशुक्रवारसेलालपानीआरहाहै।कुछउद्योगोंनेइसनदीमेंअपनारसायनयुक्तपानीछोड़दियाहै।इससेपहलेभीनदीमेंउद्योगोंनेपानीछोड़दियाथा,जिससेजीव-जंतुवमछलियांमरगईथीं।प्रदूषणविभागकेसदस्यसचिवनेइसपरकार्रवाईकरतेहुएपानीकेसैंपलभरेथे।सैंपलकीजांचहोनेपरतीनउद्योगोंकारसायनइसमेंमिलनेकीपुष्टिहुईथी,जिसपरइनउद्योगोंकेपानीवबिजलीकेकनेक्शनकाटदिएगएथे।इनउद्योगोंनेभविष्यमेंऐसानकरनेकीबातकहीथी,जिसपरउनकेकनेक्शनजोड़ेगए,लेकिनअबदोबारासेपानीमेंरसायनछोड़ेजानेकेमामलेसामनेआनेलगेहैं।यहीपानीउठाऊसिचाईयोजनाकेमाध्यमसेलोगोंकेखेतमेंजारहाहै।खेतोंमेंपेयजलट्यूबवैलहोनेसेयहपानीलोगपीरहेहैंवजिससेलोगोंकोजानलेवाबीमारीलगनेकाखतराबनाहुआहै।भाटियांपंचायतमेंअभीतककैंसरजैसीबीमारीकीचपेटमेंकईलोगआचुकेहैं,जिससेकरीबपांचलोगअपनीजानभीगंवाचुकेहैं।लोगबोले,साथलगतेउद्योगछोड़तेहैंपानी

ग्रामीणहरपालसिंह,सतनामसिंह,रामस्वरूप,हरप्रीतसिंह,हिम्मतसिंह,सदाराम,हरदेवसिंह,हरबंससिंह,सर्वजीतसिंहकाकहनाहैकिचिकनीनदीकेसाथलगतेउद्योगअपनादूषितपानीनदीमेंछोड़देतेहैं।यहपानीइतनाजहरीलाहैकिपानीमेंसभीजीव-जंतुमरजातेहैंऔरयहीपानीलिफ्टयोजनाओंमेंजारहाहै।चिकनीनदीकेकिनारेकंगनवाल,ढांगउपरलीवढांगनिहलीतथासरसानदीकेकिनारेउठाऊपेयजलयोजनाएंहैं,जोकिइसनदीकापानीउठाकरकिसानोंकोउपलब्धकरवातीहैं।सदारामनेबतायाकियहपानीखेतसेजलस्रोतोंमेंमिलरहाहै।संबंधितकंपनीपरहोगीकार्रवाई

पर्यावरणबोर्डकेअधिशाषीअभियंताप्रवीणगुप्तानेबतायाकिउन्होंनेसूचनामिलतेहीटीमकोमौकेपरभेजदियाहै।टीमकेसदस्यपानीकासैंपललेंगे।जिसभीकंपनीकारसायनइसपानीमेंहोगाउसकेखिलाफकार्रवाईकीजाएगी।