दहेज का अभिशाप

दहेजप्रताड़नाकेमामलोंमेंतुरंतगिरफ्तारीपररोकलगानेकेअपनेहीआदेशपरसुप्रीमकोर्टनेनएसिरेसेविचारकरनेकाफैसलातोकरलिया,लेकिनजबतकवहकिसीनिर्णयपरनहींपहुंचतातबतकयहप्रश्नअनुत्तरितहीरहनेवालाहैकिवहइसमामलेमेंकोईदिशानिर्देशतयकरेगायानहीं?इसअस्पष्टताकाकारणसुप्रीमकोर्टकायहसवालहैकिआखिरजबदहेजप्रताड़नासेसंबंधितकानूनमौजूदहैतोफिरदिशानिर्देशबनानेकीक्याजरूरतहै?यहअस्पष्टताजितनीजल्ददूरहोउतनाहीबेहतर,लेकिनकेवलइतनाहीपर्याप्तनहीं।ऐसीकिसीव्यवस्थाकीभीजरूरतहैजिससेनतोदहेजप्रताड़नाकानूनकमजोरहोऔरनहीउसकादुरुपयोगहो।सुप्रीमकोर्टनेदहेजप्रताड़नाकेमामलेमेंतुरंतगिरफ्तारीपररोककाफैसलाइसलिएदियाथा,क्योंकिधारा498-एकेदुरुपयोगकीशिकायतेंबढ़तीहीजारहीथीं।चूंकिइसधाराकेतहतदहेजप्रताड़नाकीशिकायतहोतेहीतुरंतगिरफ्तारीकाचलनआमहोचुकाथाइसलिएज्यादातरमामलोंमेंशुरुआतीजांच-पड़तालकेबगैरससुरालपक्षकेलोगजेलभेजदिएजातेथे।कईमामलोंमेंदहेजकेलिएप्रताड़ितकरनेकेआरोपीससुरालपक्षकेसभीसदस्यऔरयहांतककिरिश्तेदारभीहोतेथे।उन्हेंभीजेलकीहवाखानीपड़तीथी।बादमेंऐसीकईशिकायतेंझूठीयाअतिश्योक्तिपूर्णसाबितहोतीथीं,लेकिनतबतकजेलभेजदिएगएलोगोंकीप्रतिष्ठातार-तारहोजातीथी।उन्हेंजेलजानेकेसाथहीसामाजिकअपमानकाभीसामनाकरनापड़ताथा।न्यायऔरकानूनकातकाजायहकहताहैकिकिसीभीमामलेमेंआरोपीबनाएगएलोगोंकीगिरफ्तारीप्रारंभिकजांच-पड़तालकेबादहीहो,लेकिनदहेजप्रताड़नाकेमामलोंमेंअगरपुलिसजांच-पड़तालशुरूकरतीथीतोउसपरऐसेआरोपलगनेलगतेथेकिवहटालमटोलयाफिरमामलेकोरफा-दफाकररहीहै।इसकेचलतेपुलिसआरोपियोंकोतत्कालगिरफ्तारकरनेमेंहीअपनीभलाईसमझतीथी।जैसेयहसहीहैकिधारा498-एकादुरुपयोगहोरहाहैवैसेहीयहभीकिदहेजकेनामपरबहुओंकोप्रताड़ितकरनेकासिलसिलाभीकायमहै।उन्हेंकेवलपरेशानहीनहींकियाजाता,बल्किकुछमामलोंमेंमौतकेहवालेभीकियाजाताहै।आंकड़ेबतातेहैैंकि2012-15केबीचदहेजहत्याकेतीसहजारसेअधिकमामलेदर्जकिएगए।यहभयावहआंकड़ाहैऔरभारतीयसमाजकीविकृतिकोरेखांकितकरताहै।दहेजनेसमयकेसाथएकऐसीसामाजिकबुराईकारूपलियाजोकरीब-करीबसभीसमुदायोंमेंप्रविष्टकरगई।आजयहकेवलहिंदूसमाजतकसीमितनहींहै।सामाजिकबुराइयोंकेमामलेमेंइसकीअनदेखीनहींकीजासकतीकिकेवलकानूनकेबलपरउन्हेंदूरनहींकियाजासकता।यहउम्मीदकीजातीहैकिसुप्रीमकोर्टजल्दहीऐसाकोईफैसलादेगाजिससेदहेजप्रताड़नारोधीकानूनऔरअधिकउपयुक्तरूपमेंलागूहोगा,लेकिनइसीकेसाथसमाजकोभीयहदेखनाहोगाकिवहखुदकोदहेजकेअभिशापसेकैसेमुक्तकरे।

[मुख्यसंपादकीय ]