दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन का संकट, कहा हो सकती है बड़ी त्रासदी

नयीदिल्ली,दोमई(भाषा)दिल्लीकेकुछअस्पतालोंनेअपनेखत्महोतेऑक्सीजनभंडारोंकेबारेमेंरविवारकोअधिकारियोंकोआपातसंदेशभेजे।कोरोनावायरसकेबढ़तेमामलोंकेबीचछोटेअस्पतालइसजीवनरक्षकगैसकीकमीकालगातारसामनाकररहेहैं।मधुकररेनबोचिल्ड्रनअस्पतालनेरविवारकोअपनेयहांऑक्सीजनकाभंडारसमाप्तहोनेकासंदेशदियाऔरकहाकिचारनवजातोंसमेत50लोगोंकीजान‘‘खतरेमेंहै।’’अस्पतालकेएकअधिकारीनेकहाकिअस्पतालमेंकरीब80मरीजहैं,जिनमेंकोविड-19केमरीजभीहैं।उन्होंनेकहाकिइसमें15नवजातभीहैं।उन्होंनेकहा,‘‘वहांचारनवजातोंसमेत50लोगऑक्सीजनसपोर्टपरहैं।’’अस्पतालमेंतरलऑक्सीजनकेभंडारकेलिएटैंकनहींहैऔरउसकीनिर्भरतानिजीविक्रेतासेऑक्सीजनसिलेंडरोंकीआपूर्तिपरहै।अधिकारीनेकहा,‘‘निरंतरआपूर्तिकेअभावमेंयहरोजानाकीलड़ाईबनगईहै।हमेंहरदिनकरीब125ऑक्सीजनसिलेंडरोंकीजरूरतपड़तीहै।’’अस्पतालनेकहाकिउसेदोपहरकरीबडेढ़बजेसरकारीअधिकारियोंकीमददसे20ऑक्सीजनसिलेंडरमिले।द्वारकास्थितआकाशहेल्थकेयरनेसरकारीअधिकारियोंसेमरीजोंकोकिसीदूसरीजगहस्थानांतरितकरनेकीअपीलकी,ताकि‘‘उन्हेंबचायाजासके।’’अस्पतालकेट्विटरहैंडलसेएकट्वीटकियागया,‘‘मददकेलिएगुहार:पूरेदिनकोशिशकरनेकेबादकेवलपांचऑक्सीजनसिलेंडरमिले,250सेज्यादामरीजोंकीजानबचानेकेलिए60मिनटसेअधिकनहींबचेहैं।’’कालकाजीकेट्राइटनअस्पतालकीडॉदिपालीगुप्तानेकहाकिवेउनकेनवजातशिशुओंसंबंधीगहनदेखभालकक्ष(एनआईसीयू)केलिएऑक्सीजनकाप्रबंधनकरनेमेंसंघर्षकररहेहैं।उन्होंनेकहा,‘‘हमएकहफ्तेसेऑक्सीजनकेसंकटसेजूझरहेहैं।जल्दहीनिरंतरआपूर्तिसुनिश्चितनहींकीगईतोबड़ीत्रासदीहोसकतीहै।’’आपनेताचड्ढानेइसपरकहाकिसरकारनेअस्पतालकोराजघाटप्रतिक्रियाकेंद्रसेपांचडीप्रकारकेसिलेंडरदिएहैं।उन्होंनेट्वीटकिया,‘‘अस्पतालकेअधिकारीइसेलेनेआरहेहैं।पूरीउम्मीदहैकिअस्पतालकीऑक्सीजनआपूर्तितेजीसेबहालहोजाएगी।’’उन्होंनेकहा,‘‘दिल्लीकोकमऑक्सीजनआपूर्तिकिएजानेकीवजहसेसरकारकेऑक्सीजनभंडारकाफीसीमितहैंलेकिनहमकिसीभीअप्रियघटनाकोरोकनेकेलिएहरसंभवप्रयासकररहेहैं।’’सीतारामभरतियाइंस्टीट्यूटऑफसाइंसएंडरिसर्चनेभीसोशलमीडियाकेजरिएअधिकारियोंसेमददमांगी।संस्थाननेट्वीटकिया,‘‘45कोविडरोगियोंकोभर्तीकरायागया।पांचबजेतकतरलऑक्सीजनकीआपूर्तिकीजरूरतहै।मदद!!’’अभीयहपतानहींचलसकाहैकिसुविधामिलीयानहीं।इसबीचबीएलके-मैक्ससुपरस्पेशलिटीअस्पतालनेकहाकिउसने‘‘एकऑक्सीजनउत्पादकऔरउच्च-दबाववालेसिलेंडरभरनेकीप्रणालीकीस्थापनाकीहै,जोअस्पतालमेंमेडिकलऑक्सीजनकीमौजूदामांगकेमुकाबलेलगभग15प्रतिशतअतिरिक्तबैक-अपदेगा।’’शनिवारको,कोविड-19के12मरीजोंकीदक्षिणदिल्लीकेबत्राअस्पतालमेंमौतहोगईथी,जबदोपहरमेंकरीब80मिनटतकअस्पतालकेपासचिकित्सीयऑक्सीजननहींथी।मृतकोंमेंएकवरिष्ठचिकित्सकभीशामिलहैं।दोहफ्तेकेभीतरराष्ट्रीयराजधानीमेंऑक्सीजनसंकटकेकारणहुईयहतीसरीघटनाहै।इससेपहलेजयपुरगोल्डनअस्पतालमें20कोरोनामरीजोंऔरसरगंगारामअस्पतालमें25मरीजोंकीमौतहोगईथी।कोरोनावायरसकेमामलेहरदिनबढ़नेसेदिल्लीकेकईअस्पतालऑक्सीजनकीकमीसेजूझरहेहैं।दिल्लीसरकारमौजूदा490मीट्रिकटनकोटेकीबजायकेंद्रसे976मीट्रिकटनऑक्सीजनकीमांगकररहीहै।एकअधिकारीनेबतायाकिशुक्रवारकोदिल्लीसरकारकोमहज312मीट्रिकटनऑक्सीजनमिली।