दिल्ली: माकन ने दिया कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा, अब शीला दीक्षित को जिम्मेदारी देने पर चर्चा

नईदिल्ली:कांग्रेसकीदिल्लीइकाईकेअध्यक्षअजयमाकनकेइस्तीफादेनेकेबादअबनयीप्रदेशकांग्रेसकमेटीकेजल्दगठितहोनेकेआसारहैं.इसकमेटीमेसामाजिक,राजनीतिकऔरक्षेत्रीयसमीकरणोंकोध्यानमेंरखेजानेकीसंभावनाहै.

पार्टीसूत्रोंकाकहनाहैकिकुछअन्यराज्योंकीतरहदिल्लीमेंभीप्रदेशकांग्रेसकमेटीकेअध्यक्षकेसाथतीनयाचारकार्यकारीअध्यक्षोंकीनियुक्तिहोसकतीहैताकिसमाजकेप्रमुखवर्गोंकोप्रदेशसंगठनमेंशीर्षस्तरपरप्रतिनिधित्वमिलसके.

माकनकेबाददिल्लीपीसीसीकेअध्यक्षकोलेकरजिननामोंकोलेकरअटकलेंलगाईजारहीहैंउनमेंपूर्वमुख्यमंत्रीशीलादीक्षितकानामप्रमुखहै.उनकेअलावायोगानंदशास्त्री,राजकुमारवर्मा,हारूनयूसुफऔरमहाबलमिश्राकेनामोंकीभीचर्चाहै.

पार्टीकेएकवरिष्ठनेतानेकहा,‘‘हालकेकुछराज्योंमेंपीसीसीमेंअध्यक्षकेसाथतीनयाचारकार्यकारीअध्यक्षबनाएहैंताकिसमाजकेसभीवर्गोंकोसंगठनमेंप्रतिनिधित्वमिले.इसबातकीप्रबलसंभावनाहैकिदिल्लीपीसीसीकायहीस्वरूपहोसकताहै.’’इसबीच,ऐसीभीचर्चाहैकिमाकनकोकांग्रेसकेराष्ट्रीयसंगठनमेंजगहदीजासकतीहैऔरवहआगामीलोकसभाचुनावभीलड़सकतेहैं.

करीबचारवर्षतकदिल्लीकांग्रेसकाअध्यक्षरहनेकेबादउन्होंनेपदछोड़ाहै.वैसे,नएपीसीसीकागठनदिल्लीमेंमौजूदाराजनीतिकसमीकरणऔरलोकसभाचुनावकेमद्देनजरकियाजाएगा.लंबेसमयसेअटकलेंहैंकिलोकसभाचुनावमेंआमआदमीपार्टीकेसाथकांग्रेसकागठबंधनहोसकताहै.इसलिहाजसेभीनयीपीसीसीकीभूमिकाअहमहोसकतीहै.

वैसे,प्रदेशकांग्रेसकमेटीकाअध्यक्षरहतेहुएमाकननेआमआदमीपार्टी(आप)केसाथगठबंधनकाखुलकरविरोधकियाथा.शीलादीक्षितकेनेतृत्वमेंदिल्लीकीसत्तामेंलगातारतीनबारसत्तामेंरहनेकेबादकांग्रेसकीस्थिति2013केविधानसभाचुनावमेंकाफीखराबहोगईजबवहमात्रआठसीटोंपरसिमटगई.इसकेबाद2014केलोकसभाचुनावऔरफिर2015केविधानसभाचुनावमेंवहदिल्लीमेंखाताभीनहींखोलसकी.