दिल्ली पहुंची महाराष्ट्र की हलचल: शाह से मिले फडणवीस , पवार-सोनिया भी मिलेंगे

नईदिल्ली/मुंबईमहाराष्ट्रमेंसरकारबनानेकोलेकरजारीसियासीहलचलअबदिल्लीपहुंचचुकीहै।महाराष्ट्रकेमुख्यमंत्रीदेवेंद्रफडणवीसनेसोमवारसुबहदिल्लीमेंगृहमंत्रीअमितशाहसेमुलाकातकी।इसकेसाथहीएनसीपीप्रमुखशरदपवारभीआजकांग्रेसअध्यक्षसोनियागांधीसेमुलाकातकरनेवालेहैं।पवार-सोनियाकीयहमुलाकातशिवसेनाऔरदूसरीबीजेपी-विरोधीपार्टियोंकेलिएएकअवसरकीतरहमानीजारहीहै।विधानसभाचुनावनतीजोंके10दिनबादभीअभीतककिसीपार्टीनेसरकारबनानेकादावापेशनहींकियाहै।शिवसेनालगातारबीजेपीपरमुख्यमंत्रीपदकेलिएदबावबनारहीहैऔरसाथहीमंत्रालयमेंभीबराबरकाहिस्सामांगरहीहै।शाह-फडणवीसमेंहुईक्याबात?इसबैठककाऔपचारिकउद्देश्यवैसेतोमहाराष्ट्रमेंबाढ़-बारिशसेकिसानोंकोहुएनुकसानपरराष्ट्रीयआपदाराहतकोष(एनडीआरएफ)केतहतमिलनेवालीसहायतापरचर्चाबतायाजारहाहै।लेकिनइसकेसाथहीदोनोंनेताओंकेबीचमहाराष्ट्रकेसियासीसंकटपरभीचर्चातयमानीजारहीहै।महाराष्ट्रमेंसरकारबनानेपरगतिरोधजारीपिछलेकुछदिनोंसेप्रदेशमेंबीजेपीकोसत्तासेबाहररखनेकेलिएएकवैकल्पिकव्यव्स्थाकीसुगबुगाहटभीहै।इसकेतहतशिवसेनाकोकांग्रेसऔरएनसीपीकेसमर्थनदेनेकीखबरेंहैं।चुनावनतीजोंकेबादसेहीअपनीपार्टीकेमुख्यमंत्रीकीमांगपरबीजेपीऔरशिवसेनाकेनेताअड़ेहुएहैं।हालांकि,अभीतकप्रदेशमेंसरकारबनानेकीदिशामेंकोईप्रगतिनहींहुईहै।पढ़ें:शरदपवारबोले-टखुदचुनेंगेअपनारास्ता,शिवसेनाकेसाथहाथनहींमिलाएगीNCP'पवार-सोनियाकीबैठकमेंगठबंधनपरचर्चाकांग्रेसऔरएनसीपीकीबैठककोलेकरकांग्रेसकेराज्यअध्यक्षजयंतपाटीलनेकहाकिमुलाकातमेंराजनीतिकविमर्शहोगा।उन्होंनेकहा,'पवारसाहबऔरकांग्रेसप्रेजिडेंटसोनियागांधीगठबंधनकोलेकरदोनोंहीपार्टियोंकेकुछमुद्दोंपरचर्चाकरेंगे।'रविवारकोमुंबईमेंएनसीपीकेनेताओंनेएकमीटिंगकीऔरराज्यकीमौजूदाराजनीतिकस्थितिपरचर्चाकी।पढ़ें:शिवसेनाकेतेवर,'चाहेंतोअपनेदमपरबनासकतेहैंसरकार,हमाराहीसीएमहोगा'शिवसेनाकीतरफसेसमर्थनकीऔपचारिकअपीलनहींएनसीपीकेएकवरिष्ठनेतानेशिवसेनाकोसमर्थनदेनेकीअटकलोंपरखुलकरकुछनहींकहा,लेकिनएनसीपीकेमहत्वपूर्णरोलहोनेकादावाजरूरकिया।वरिष्ठनेतानेकहा,'अभीतकहमेंशिवसेनाकीओरसेसमर्थनकेलिएकोईऔपचारिकनिमंत्रणनहींमिलाहै।हमारी54सीटेंहैंऔरइतनातयहैकिअगरगतिरोधखत्मनहींहुआतोसरकारबनानेमेंहमारीअहमभूमिकाहोगी।'देखें:शरदपवार,दुष्यंतचौटालाक्योंहैंमैनऑफदमैचसरकारबनानेकेलिएशिवसेनाकीराहबहुतमुश्किलशिवसेनाभलेहीसीएमपदकीमांगपरअड़ीहो,लेकिनसरकारबनानेकेलिएउनकेपासपर्याप्तसंख्याबलनहींहै।एनसीपीकेसमर्थनकेबादभीउन्हेंबहुमतकाआंकड़ाछूनेकेलिएकांग्रेसकेसहयोगकीजरूरतहोगी।कांग्रेसकेविधायकनितिनराउतनेशिवसेनाकोसमर्थनदेनेकेसवालपरकहा,'अगरविचारधाराकीबातकीजाएतोहमारेआदर्शअलग-अलगहैं।हमेंशिवसेनाकीओरसेकोईऔपचारिकआमंत्रणभीनहींमिलाहैऔरकोईदलकांग्रेसकोहल्केमेंनहींलेसकता।मैंनेनिजीतौरपरपार्टीनेतृत्वकोशिवसेनाकोसमर्थनदेनेपरअपनेविचारोंसेअवगतकरादियाहै।'