दो दशक में राजस्थान से आठ बड़े नेता पहुंचे राज्यसभा

जयपुर,मनीषगोधा।पूर्वप्रधानमंत्रीमनमोहनसिंहकाराजस्थानसेराज्यसभाजानालगभगतयहोगयाहै।पिछलेदोदशकमेंमनमोहनसिंहराष्ट्रीयस्तरकेआठवेंनेताहैं,जोराजस्थानकेमूलनिवासीनहींहोनेकेबावजूदयहांसेचुनकरराज्यसभाजारहेहैं।राजस्थानमेंपिछलेदोदशकसेहरपांचसालमेंसरकारबदलरहीहै।इसदौरानतीनबारकांग्रेसकीऔरदोबारभाजपाकीसरकारेंबनीहैं।2008कोछोड़देंतोजनतानेहरबारस्पष्टबहुमतकीसरकारबनाईहै।इसीकेचलतेपिछलेदोदशकमेंभाजपाऔरकांग्रेसकोअपनेराष्ट्रीयस्तरकेनेताओंकेलिएराजस्थानसेराज्यसभाकीसुरक्षितसीटमिलपाईहै।

वर्ष1998सेअबतकबनीपांचसरकारोंमेंराजस्थानसेउद्योगपतिआरपीगोयनका,पूर्वविदेशमंत्रीआनंदशर्मा,राज्यसभाकीपूर्वउपसभापतिनजमाहेपतुल्ला,मौजूदाउपराष्ट्रपतिएम.वेंकैयानायडू,प्रसिद्धवकीलरामजेठमलानी,पूर्वमंत्रीकेजेअल्फोंसऔरपूर्वमंत्रीविजयगोयलराज्यसभाजाचुकेहैं।इसकड़ीमेंअबनयानामपूर्वप्रधानमंत्रीमनमोहनसिंहकाजुड़गयाहै।उन्हें19अगस्तकोनामवापसीकासमयसमाप्तहोनेकेबादयहांसेनिर्वाचितघोषितकरदियाजाएगा।राजस्थानमेंराज्यसभाकी10सीटेंहैं।1998सेपहलेराजस्थानसेराज्यसभामेंज्यादातरयहांकेस्थानीयनेताओंकोहीभेजाजातारहाहै,हालांकिउससमयभीप्रो.एमजीकेमेननजैसेकुछबड़ेनामराजस्थानसेराज्यसभामेंगएहैं,लेकिन1998केबादहरसरकारमेंराजस्थानसेबाहरकेबड़ेनेताओंकोराजस्थानसेराज्यसभाकीसदस्यतादिलाईगईहै।

कांग्रेसकेतीनऔरभाजपाकेपांचबड़ेनेताराजस्थानकेनहींहोनेकेबावजूदयहांसेराज्यसभागए।कांग्रेसकीबातकरेंतो1998केचुनावमेंकांग्रेसने150सीटोंकेबहुमतकेसाथयहांसरकारबनाई।वर्ष2000मेंयहांसेउद्योगपतिआरपीगोयनकाकोकांग्रेससदस्यकेरूपमेंराज्यसभाभेजागया।2008केविधानसभाचुनावमेंकांग्रेसफिरसेसत्तामेंलौटीतो2010केराज्यसभाचुनावमेंपूर्वकेंद्रीयमंत्रीआनंदशर्मायहांसेराज्यसभाभेजेगए,जोमूलत:हिमाचलप्रदेशकेरहनेवालेहैं।2009मेंहालांकिकांग्रेसकेपासस्पष्टबहुमतनहींथाऔरइसनेबसपाकेसदस्योंकेसहयोगसेसरकारचलाईथी,लेकिनकांग्रेसऔरभाजपाकीविधानसभासीटोंकेबीच18काअंतरथाइसलिएआनंदशर्माकोयहांसेराज्यसभामेंभेजनेमेंज्यादापरेशानीकांग्रेसकोनहींहुई।

अब2018मेंजबकांग्रेसफिरसत्तामेंलौटीहैतोपूर्वप्रधानमंत्रीमनमोहनसिंहकांगे्रससदस्यकेरूपमेंहीराजस्थानसेराज्यसभामेंजारहेहैं।इसबारकांग्रेसकेपासस्पष्टबहुमतहैऔरनिर्दलीयवबसपाकोमिलाकर119सीटेंकांग्रेसकेखातेमेंहैं।भाजपाकीबातकरेंतोदोदशकमेंभाजपाकीदोबारसरकारबनीऔरदोनोंबारपार्टीनेलगभगएकतरफाजीतहासिलकी,इसलिएभाजपाकोअपनेनेताओंकोराज्यसभामेंभेजनेमेंकोईमशक्कतनहींकरनापड़ी।वर्ष2003मेंपार्टीने120सीटोंकेसाथसरकारबनाई।इसकेबाद2004मेंहुएराज्यसभाचुनावमेंराज्यसभाकीउपसभापतिरहींनजमाहेपतुल्लायहांसेराज्यसभाभेजीगई।

वरिष्ठवकीलरामजेठमलानीभी2010केचुनावमेंभाजपाकेटिकटपरहीराज्यसभापहुंचे।उससमयहालांकिराजस्थानमेंभाजपाकीसरकारनहींथी,लेकिनसमीकरणकुछऐसेबनेकिवेजीतनेमेंकामयाबरहे।वर्ष2013मेंभाजपाने163सीटोंकेप्रचंडबहुमतसेसरकारबनाई।इसकेबाद2014केचुनावमेंदिल्लीकेविजयगोयलराजस्थानसेराज्यसभाभेजेगएजोकेंद्रीयमंत्रीभीरहे।फिर2016मेंएम.वेंकैयानायडूयहांसेराज्यसभागए,हालांकिएकवर्षबादहीउन्हेंउपराष्ट्रपतिबनादियागया।

राजस्थानकीअन्यखबरेंपढ़नेकेलिएयहांक्लिककरें