दुष्कर्म मामले में गलत ढंग से फंसाने पर महिला पर ही प्राथमिकी दर्ज करने का कोर्ट ने दिया एसपी को निर्देश

संसू,अररिया:किसीभीबेगुनाहव्यक्तिकेविरुद्धसाजिशपूर्णढंगसेकिसीभीघटनामेंफंसानाजहांघोरअपराधहै।वहीयदिगोदमेंपलनेबढ़नेवालीमात्रनौमहीनेकीअबोधबच्चीकेसाथमनगढ़ंतढंगसेदुष्कर्मजैसीसंवेदनशीलघटनामेंलाकरकिसीनिर्दोषव्यक्तिकोफंसायाजानामानवीयसंवेदनाकोझकझोरदेनेजैसाहै।ऐसेहीएकमामलेमेंअररियाकेपोक्सोएक्टकेस्पेशलजजशशिकांतरायकीअदालतनेसख्तरूखअपनायाहैऔरमामलेकीसूचिकाद्वाराकोर्टकोगुमराहकरनेकेसाथ-साथकानूनकेसाथधोखाधड़ीकरआरोपितकोन्यायिकअभिरक्षामेंजेलमेंरखनेकोर्टमेंगलतसाक्ष्यएवंआरोपितकोन्यायिकअभिरक्षामेंरखनेकीदुस्साहसपूर्णमानसिकताकोदर्शाताहै।इसकेसाथहीकोर्टनेबौंसीथानाक्षेत्रकेगरहानिवासीसूचिकाकेखिलाफचौबीसघंटेकेअंदरप्राथमिकीदर्जकरनेकेलिएअररियाकेपुलिसअधीक्षककोनिर्देशदियाहै।

पोक्सोएक्टकेस्पेशलकोर्टकेजजशशिकांतरायकीअदालतनेगुरुवारकोएकऐसाहीआदेशदियाहै।उक्तकोर्टनेएकनौमहीनेकीनाबालिगबच्चीकेदुष्कर्मकेमामलेमेंजेलमेंबंदआरोपितकोबाइज्जतबरीकरतेइसमामलेकेसूचककेखिलाफ24घंटेकेअंदरप्राथमिकीदर्जकरनेकेलिएअररियाकेपुलिसअधीक्षककोनिर्देशजारीकियाहै।पोक्सोएक्टकेस्पेशलजजशशिकांतरायकीअदालतमेंपोक्सोएक्टस्पेशलकेसनंबर-61/19लंबितथा।इसमामलेमेंअररियामहिलाथानामेंकांडसंख्या-143/19दर्जकियागया।बौसीथानाक्षेत्रकेगरहानिवासीमहिलाप्राथमिकीदर्जकराईथी।आरोपलगायाकिसातअक्टूबर,19कोगुणवंतीमेंसूचिकाकीनौमहीनेकीबच्चीकेसाथसुधीररायनामकएकव्यक्तिनेदुष्कर्मकिया।इसमामलेमेंउक्तआरोपितगिरफ्तारहोगयातथावहजेलमेंबंदहै।

इसमामलेमेंस्पेशलकोर्टनेसुनवाईपूरीकीतथासुनवाईकेदौरानउक्तस्पेशलकोर्टनेसाक्ष्यकेअभावमेंकाफीवक्तसेजेलमेंबंदआरोपितसुधीररायकोबाइज्जतबरीकरदिया।

इसकेसाथहीस्पेशलकोर्टकेन्यायाधीशश्रीरायकीअदालतनेइसमामलेमेंकाफीगंभीररूखअपनाया।कोर्टनेइससंबंधमेंआदेशपारितकरतेहुएअररियाकेपुलिसअधीक्षककोएकपत्रजारीकियाहै।कोर्टनेकहाकिपोक्सोएक्टजैसेसंवेदनशीलमामलेमेंसूचिकाद्वाराआरोपितबनायेगयेसुधीररायइसवक्तजेलमेंबंदहै।रिकार्डकेअवलोकनसेयहस्पष्टहैकिउक्तव्यक्तिकोगलतढंगसेफंसायागयाहै।सूचिकाद्वाराकोर्टमेंप्रस्तुतसाक्ष्यसेस्पष्टहैकिउसनेकोर्टमेंगलतसाक्ष्यप्रस्तुतकरकोर्टकोगुमराहकरनेकीकोशिशकीहै।इसकारणकथितमामलोंमेंआरोपितबनेसुधीरकोबाइज्जतबरीकियाजाताहै।साथहीकोर्टनेइससंदर्भमेंअररियाकेपुलिसअधीक्षककोनिर्देशदियाकिचौबीसघंटेकेअंदरमामलेकीसुचिकाकेखिलाफसंबंधितथानामेंपोक्सोएक्टकीधारा-22केआलोकमेंएफआईआरदर्जकियाजाएतथाएफआईआरदर्जहोनेकीसूचनाकोर्टकोदीजाय।

कोर्टनेकहाकिऐसाइसलिएआवश्यकहैकिपोक्सोएक्टगंभीरएवंसंवेदनशीलमामलेसेजुड़ाहै।ऐसेमामलेमेंकिसीभीबेगुनाहव्यक्तिकोफंसाकरकोईअपनेमंसूबापूरानहींकरसकताहै।

जबकिसूचिकाबनीमहिलानेदर्जएफआईआरमेंआरोपितकेखिलाफदुष्कर्मकाआरोपलगातेअपनीहीएकअबोधबच्चीकेमामलेमेंकईघृणितशब्दोंकाउल्लेखकियाथा।जबकिउसनेकोर्टमेंअपनीगवाहीमेंपुत्रीकेसाथकोईभीघटनाहोनेसेइंकारकरदियाहै।