गांधी सेवाश्रम के सामने बना गंदे पानी का तालाब

जागरणसंवाददाता,पलवल:शहरमेंराष्ट्रपितामहात्मागांधीकीयादोंकोसंजोएहुएगांधीसेवाश्रमप्रशासनकीउपेक्षाकाशिकारहै।आश्रमकेमुख्यदरवाजेकेठीकसामनेपानीकातालाबबनाहुआहै।सड़कपरसीवरकागंदापानीभरारहताहै।लोगोंकोजलभरावसेहोकरगुजरनापड़ताहै।सीवरकेगंदेपानीकीदुर्गंधभीपर्यावरणकोदूषितकररहीहै।यहसमस्याकईमहीनोंसेबनीहुईहै।मगरजिम्मेदारइसतरफध्यानदेनेकोतैयारनहींहैं।जलभरावकाकारणसीवरऔरनालोंकीसफाईनहींहोनाहै।

आश्रममेंसंग्रहालय,पुस्तकालयऔरपार्कभीहै।पार्कमेंसैरकरनेकेलिएलोगोंकाजमावड़ारहताहै।संग्रहालयकोदेखनेकेलिएभीदूरदराजसेलोगबड़ीसंख्यामेंआतेहैं।आश्रममेंजिलास्तरीयकार्यक्रमभीआयोजितकरवाएजातेहैं।मगरप्रशासनआंखेंमूंदेहुएबैठाहै।

स्थानीयनिवासियोंकोहोतीहैभारीपरेशानी:

आश्रमकेबाहरजलभरावसेस्थानीयनिवासियोंकोभीभारीपरेशानियोंकासामनाकरनापड़ताहै।सबसेज्यादापरेशानीबुजुर्गोंऔरबच्चोंकोहोतीहै।कईबारपानीकोपारकरतेवक्तलोगपानीमेंगिरजातेहैंऔरउनकेकपड़ेगंदेहोजातेहैं।पैदलचलरहेलोगईंटोंकासहारालेकरपानीसेनिकलतेहैं।

अधिकारियोंकेआवागमनपरनिकलवायाजाताहैपानी:

गांधीआश्रमकेसामनेजलभरावकीसमस्यालंबेसमयसेबनीहुईहै।बरसातकामौसमहोयानहो,आश्रमकेबाहरपानीहमेशाजमारहताहै।गांधीआश्रममेंजिलास्तरीयकार्यक्रमों,गांधीजीकीजयंतीऔरपुण्यतिथिपरहीअधिकारियोंकोबेहतरसफाईव्यवस्थादिखानेकेलिएयहपानीनिकलवायाजाताहै।इसकेकुछघंटोंबादहीफिरइससड़कपरजलभरावहोजाताहै।

सेवाश्रमगांधीजीकीयादोंकोसंजोएहुएहै।बड़ीसंख्यामेंयहांलोगआतेहैं,वहींएकस्वच्छवातावरणमिलताहै।मगरनगरपरिषदकीलापरवाहीकेकारणलोगआश्रमआनेसेभीकतरातेहैं।

-सन्नीगोयल,दुकानदारआश्रमकेठीकसामनेहमाराघरहै।सीवरकागंदापानीयहांहमेशाजमारहताहै।इससमस्याकेकारणहमारेलिएपरेशानीखड़ीहोरहीहै।घरसेनिकलनातकमुश्किलहोजाताहै-सुनील,स्थानीयनिवासी

गंदेपानीकेजमावड़ेकोलेकरकईबारशिकायतदीगईहै,मगरअधिकारियोंकीलापरवाहीसेसमस्याकासमाधाननहींहोरहाहै।प्रशासनकोइससमस्याकास्थाईसमाधानकरनाचाहिए-देवीचरणमंगला,अध्यक्ष,गांधीसेवाश्रमट्रस्ट

गांधीआश्रमकेबाहरपानीजमाहोनेकामामलामेरेसंज्ञानमेंआयाहै।जल्दहीसमस्याकासमाधानकरवादियाजाएगा-दीपकमंगला,विधायक,पलवल