गन्ने की पौध तैयार कर आत्मनिर्भर बन रही महिलाएं

भास्करसिंह,रामपुर:महिलाओंकोरोजगारसेजोड़नेकेलिएसरकारविभिन्नविभागोंकीमददसेकईयोजनाएंचलारहीहै।अबइसमेंगन्नाविभागभीशामिलहोगयाहै।विभागद्वाराउन्नतप्रजातिकीपौधतैयारकरनेकेलिएसिगलबडचिपविधिअपनाईजारहीहै।प्रदेशभरमेंइसविधिसेपौधतैयारकरनेकेलिएविभागनेगांवकीमहिलाओंकोजिम्मेदारीदीहै।महिलाओंकेसमूहबनाकरनर्सरीतैयारकराईजारहीहै।इसकेलिएविभागचीनीमिलोंकीमददसेजरूरीसामग्रीउपलब्धकरारहाहै।पौधतैयारहोनेपरविभागहीमहिलाओंसेइन्हेंखरीदेगा।इससेमहिलाएंअतिरिक्तआयअर्जितकरपरिवारकीआर्थिकस्थितिमजबूतकरसकेंगीऔरआत्मनिर्भरबनसकेंगी।गन्नाबेल्टवालेक्षेत्रोंकीहजारोंमहिलाओंकोरोजगारमिलरहाहै।प्रतिपौधकीबिक्रीपर1.50रुपयेहोगीकमाई

महिलाओंकोप्रतिपौधकीबिक्रीपर1.50रुपयेकीकमाईहोगी।ज्येष्ठगन्नाविकासनिरीक्षकसाहबसिंहसत्यार्थीनेबतायाकिराष्ट्रीयखाद्यसुरक्षामिशनकेतहतविभागद्वाराचलाएजारहेकार्यक्रमकेअंतर्गतस्वयंसहायतासमूहोंकीमहिलाएंसिंगलबडचिपसीडलिगविधिसेउन्नतप्रजातिकीपौधतैयारकररहीहैं।इसकेलिएआधादर्जनसमूहोंकागठनकियागयाहै।प्रत्येकसमूहमें10महिलाएंहैं।इसतरहशुरुआतमें60महिलाएंरोजगारसेजुड़गईहैं।समूहमेंशामिलमहिलाओंकोपहलेप्रशिक्षणदियागयाहै।महिलास्वयंसहायतासमूहोंकोविभागएवंगन्नामिलद्वारानर्सरीतैयारकरनेकेलिएसमस्तसामग्रीउपलब्धकराईजारहीहै।पौधतैयारहोनेपरउन्हेंडेढ़रुपयेप्रतिपौधकेहिसाबसेविभागद्वाराभुगतानकियाजाएगा।एकओरजहांकिसानगन्नेकीफसलबेचकरआमदनीकरेगा,वहींपरिवारकीमहिलाएंपौधबेचकरअतिरिक्तआयजुटाएंगी।स्वारतहसीलकेगांवोंकीमहिलाएंतैयारकररहीपौध

इसयोजनाकीशुरुआतमेंस्वारतहसीलक्षेत्रकेकुंडेसरा,नानकाररानी,सेमरालाड़पुर,अजीमनगरवलोधीपुरआदिगांवोंकीमहिलाएंसिंगलबडचिपविधिसेतैयारगन्नेकीपौधमेंरुचिलेरहेहैं।इसकेलिएमहिलाओंकोगन्नेकीनर्सरीतैयारकरनेकेलिएजरूरीसामग्रीउपलब्धकरादीहै।ऐसेतैयारकीजारहीपौध

गन्नेकीइसनईप्रजातिकीपौधतैयारकरनेकेलिएआठसेनौमाहकीस्वस्थएवंकीटरहितगन्नाफसलसेनर्सरीतैयारकरनेकेलिएगन्नेकाचुनावकियाजाताहै।इसगन्नेसेबडचिपनिकालतेहुएपोरट्रेमेंबोआईसेपहलेगन्नेकोउपचारितकियाजाताहै।बादमेंइससेपोरट्रेकेखांचोंमेंबालूवमिट्टीकेसाथसहीअनुपातमेंकार्बनिकखादमिलाकरनर्सरीतैयारकीजातीहै।