गर्मी के तेवर बढ़ते ही सजने लगे मिट्टी के बर्तनों के बाजार, मिट्टी के इन उत्पादों की भरमार

नईदिल्ली,जागरणसंवाददाता।राजधानीमेंगर्मीबढ़तीहुईगर्मीनेअपनेतेवरदिखानेशुरूकरदिएहैँ।ऐसेमेंतापमानबढ़नेकेसाथहीमिट्टीकेबर्तनोंकेबाजारसजनेलगेहैं।मध्यऔरपुरानीदिल्लीकेबाजारोंमेंजगह-जगहमिट्टीकेबर्तनबिकरहेहैं।मटकेसेलेकरमिट्टीकेजगखरीदनेकेलिएलोगबाजारोंकीओररुखकरनेलगेहैं।गर्मीमेंठंडापानीपीनेकेलिएमटकासबसेसस्ताऔरहरजगहउपलब्धरहनेवालासाधनहै।जैसे-जैसेगर्मीबढ़तीजारहीहै,वैसे-वैसेमटकोंकीमांगभीबढ़रहीहै।गर्मीकोदेखतेहुएबड़ेपैमानेपरदिल्लीदेहातकेइलाकोंमेंमटकेतैयारकिएजारहेहैं।

इसकेसाथहीमिट्टीसेबनीपानीकीबोतल,केंपरवअन्यउत्पादोंकीबिक्रीदेखीजारहीहै।दरियागंजकेदुकानदारनेबतायाकियुवामिट्टीकीबोतलकोकाफीअधिकपसंदकररहेहैं।मिट्टीकीपानीकीबोतलकीकीमत150रुपयेसेशुरूहै।उन्होंनेकहाकिमटका70से100रुपयेतककाबिकरहाहै।

वहीं,मिट़्टीकेआकर्षककेंपरभीतैयारइसबारबाजारमेंआएहैं।इनकीकीमत300से400रुपयेसेशुरूहै।दुकानदारोंकाकहनाहैकिइससालपिछलेसालकीतुलनामें10प्रतिशतअधिककीमतबढ़गईहै।दरियागंजकेदुकानदारकमलेशनेबतायाकिगर्मीकेमौसममेंमटकोंकीमांगबढ़जातीहै।कोरोनाकेबादपिछलेदोसालोंमेंइसबारलोगघरोंसेबाहरनिकलरहेहैंऔरमटकेखरीदनेपहुंचरहेहैं।उन्होंनेकहाकिमटकेकापानीपीनेकेशौकीनलोगहीमटकेकीखरीदीकरतेहैं।

दुकानदारोंनेकहाकिअभीतोगर्मीकीशुरुआतहैआगेगर्मियोंमेंमटकोंकीमांगबहुतऔरबढ़ेगी।उनकाकहनाहैकितकनीकीदौरमेंमटकेऔरमिट्टीकेबर्तनबेचनामुश्किलहोरहाहै,लेकिनकुछलोगइसओरलौटरहेहैंऔरहमारेमिट्टीकेबर्तनोंकोपसंदकररहेहैं।काफीलोगफ्रिजकापानीपीनेसेपरहेजकरतेहैंवोमटकाकापानीपसंदकरतेहैं।चांदनीचौकसेखरीदारीकरनेआएरमेशनेकहाकिमटकेमेंरखापानीठंडारहताहैऔरवस्वास्थ्यकेलिएभीअच्छारहताहै।

इसकेपानीसेहीप्यासबुझतीहै।फ्रिजकापानीप्यासनहींबुझपाती।बाक्समिट्टीसेबनेउत्पादभीलोगोंरहेहैंलुभाबाजारोंमेंइनदिनोंमिट्टीकेगिलास,बोतल,सुराही,दहीजमानेकेलिएबर्तनभीलोगोंकोलुभारहेहैं।इसेकेसाथहीसजावटकीविभिन्नवस्तुएंभीइनदुकानोंपरउपलब्धहैं।इनमेंगमले,झालर,दीपक,गुल्लक,मूर्तियां,प्यालेआदिशामिलहैं।दुकानदारोंनेबतायाकिइनमिट्टीकेबर्तनोंकोघरमेंसजावटकेतौरपरभीइस्तेमालकियाजाताहै।