हैंडपंपों के सूखे हलक, कैसे बुझे प्यास

बाराबंकी):जलहीजीवनहै।यहवाक्यकिताबोंमेंसबनेपढ़ाहैऔरहकीकतभीइसीकेआसपासहै।लेकिन,विकासविभागकेलिएयहमहजस्लोगनभरहै।तभीतोआमजनकीप्यासबुझानेकामाध्यमकहेजानेवालेहैंडपंपोंकेहलकसूखेहुएहैं।पर,ब्लॉककेअधिकारीइन्हेंठीककरानातोदूरज्यादातरहैंडपंपकेठीकहोनेकादावाकररहाहै।जागरणकीपड़तालमेंज्यादातरगांवोंकेहैंडपंपखराबदिखे।पैसामिलेतोहोकाम

केसएक:गोमतीनदीकेकिनारेकीग्रामपंचायतलखौरामेंकुलएकसौहैंडपंपलगेहैं,जिनमेंसेकरीबएकदर्जनहैंडपंपपानीनहींदेरहेहैं।ग्रामपंचायतसहितचारमजरोंकीआबादीकरीबतीनहजारहै।यहींकेकर्मेमऊगांवमेंरामकिशुनकेघरकेसामनेलगानलकरीबतीनमाहसेखराबहै।रामकिशुनकाकहनाहैकिकईबारशिकायतकीलेकिनहैंडपंपसहीनहींकरायागयाहै।पानीकीसमस्याहै।ग्रामनिवासीसियाराम,बृजमोहन,गजराज,रामकुमार,छोटेलाल,रामसमुझ,जसवंतकेदरवाजेलगेहैंडपंपपानीनहींदेरहेहैं।ग्रामप्रधानरघुराजकाकहनाहैकिरीबोरकापैसामिलेतोकामहो।दूरसेलातेहैंपानी

केसदो:ग्रामपंचायतरामनगरकेपालपुरनिवासीरामसजीवनसिंहकेदरवाजेलगाइंडियामार्काहैंडपंपपिछलेछहमाहसेपानीनहींदेरहाहै।वहींखेरवानिवासीमोहम्मदअजीजकेयहांलगाहैंडपंपभीकाफीसमयसेठपहै।जिसकेचलतेपीनेकेलिएकाफीदूरलगेहैंडपंपसेपानीलानापड़ताहै।ग्रामपंचायतरामनगरकीआबादीकरीबचारहजारहै।कागजोंमेंपानीउगलरहेहैंडपंप

केसतीन:ग्रामपंचायतमकनपुरकेमियांकापुरवामेंकमलेशकेदरवाजेलगाहैंडपंपकईमहीनोंसेखराबपड़ाहै।जबकि,इसहैंडपंपसेकरीबएकदर्जनपरिवारपानीपीतेथे।ग्रामपंचायतकीआबादीकरीबचारहजारवसौसेज्यादाहैंडपंपकागजोंपरसहीसलामतपानीदेरहेहैं।इसकेअलावाराजापुरकोलहदामेंगुरूसरन,मोहम्मदपुरमेंजंगबहादुर,रामकेशरावतवरामसागरकेदरवाजेलगेनलबालूदेरहहै।सीएचसीत्रिवेदीगंजमेंस्टाफआवासकेपासवउपस्वास्थ्यकेंद्रदहिलापरिसरमेंलगाहैंडपंपखराबहोनेसेयहांआनेवालेतीमारदारोंवआसपासरहनेवालेग्रामीणोंकोपेयजलकीकिल्लतसेजूझनापड़ताहै।फोननहींउठातेहैंअधिकारी

खंडविकासअधिकारीरवींद्रयादवकोजबफोनकियागयातोरिसीवनहींहुआ।वहींएडीओपंचायतप्रमोदकुमारश्रीवास्तवकाकहनाहैकिअबप्राथमिकताकेआधारपरहैंडपंपोंकोठीककरायाजाएगा।फैक्टफाइल

ग्रामपंचायतें:66

रिबोरलायहहैंडपंप:दोदर्जन