जल संरक्षण पर ध्यान नहीं दिया गया तो आने वाले समय में जलापूर्ति की होगी बड़ी समस्या होगी : डा गिरिजेश

जलसंरक्षणपरध्याननहींदियागयातोआनेवालेसमयमेंजलापूर्तिकीहोगीबड़ीसमस्याहोगी:डागिरिजेश

सिंदरी:जलसंरक्षणपरसमुचितध्याननहींदियागयातोआनेवालेसमयमेंदुनियाकीसबसेबड़ीसमस्याजलपूर्तिकीहोगी।उक्तबातेंबीआइटीसिंदरीकेभूगर्भविज्ञानीडा.गिरिजेशकुमारनेसिंदरीकालेजमेंबुधवारकोकही।आजादीकेअमृतमहोत्सवकेतहतकालेजमेंजलसंरक्षणपरव्याख्यानकाआयोजनकियागया।

डा.गिरिजेशनेकहाकिधनबादजिलेमेंप्रतिदिनलगभग270मिलियनगैलनपानीकीआवश्यकताहै।जिलेमेंदैनिकआवश्यकताओंकीपूर्तिकेलिएलगभग68मिलियनपानीकीकमीहै।धनबादजिलेमेंभूगर्भीयजलकीकोईकमीनहींहै।यदिखदानोंकेपानीकेशुद्धिकरणकेसमुचितउपायकिएजाएंतोधनबादमेंपेयजलकीसमस्याकानिदानकियाजासकताहै।

उन्होंनेकहाकिजिलेमेंप्रतिदिनघरेलूआवश्यकताकेलिए135मिलियनगैलन,औद्योगिकआवश्यकताओंकेलिए40मिलियनगैलन,जनपयोगीकार्योंकेलिएदोमिलियनगैलनऔरअग्निशमनसमस्याकेलिए15मिलियनगैलनपानीकीजरूरतहै।उन्होंनेपानीकीबर्बादीपरदुखव्यक्तकिया।कहाकिउपलब्धपानीका55फ़ीसदीहिस्साकिसीनकिसीरूपमेंबर्बादहोरहाहै।यदिहमपानीकीबर्बादीकोरोकनेमेंसफलरहेतोदैनिकउपयोगकेलिएजलकीकमीकीसमस्यासेनिजातमिलजाएगी।

डा.गिरिजेशनेकहाकिदुनियामेंउपलब्धपानीका97फ़ीसदीभागखारेपानीकाहै।मात्रतीनफ़ीसदीशुद्धपानीउपयोगकेलिएउपलब्धहै।इसमेंसेभीदोफ़ीसदीफ्रेशपानीबर्फऔरग्लेशियरसेढकाहुआहै।मात्रएकफ़ीसदीफ्रेशपानीहीहमारेउपयोगकेलिएउपलब्धहैं।ऐसेमेंजलसंरक्षणकासमुचितप्रयासनहींकियागयातोआनेवालेसमयमेंपेयजलआपूर्तिसबसेबड़ीसमस्याहोगी।

जलसंरक्षणकेलिएउन्होंनेनलकोखुलानहींछोड़ने,नलसेहोनेवालेपानीकेलीकेजकोरोकने,रसोईघरोंमेंइस्तेमालहोनेवालेपानीकेपुन:उपयोगकीव्यवस्थाकरनेऔरपौधारोपणकीआवश्यकताबताई।प्रारंभमेंअमृतमहोत्सवकार्यक्रमकेसंयोजकप्रोअनिलआशुतोषनेअतिथियोंकास्वागतकिया।प्राचार्यनकुलप्रसादनेधन्यवाददिया।कार्यक्रममेंदर्जनोंविद्वानशामिलहुए।