जंगली जानवरों की दस्तक वन विभाग बना लापरवाह

सिमली:विकासखंडकर्णप्रयागकेग्रामीणअंचलोंमेंजंगलीजानवरोंकाआतंकबरकरारहै।सालोंसेबंदरऔरसुअरकिसानोंकीफसलोंकोनुकसानपहुंचातेआरहेहैं।लेकिनवनविभागऔरप्रशासनचुप्पीसाधेहै।

ग्रामीणराजेंद्रप्रसाद,संतोषखंडूड़ी,रविंद्रप्रसाद,बलवीरलालकाकहनाहैकिक्षेत्रकेसिमली,राडखी,मजियाडी,सेनू,चमोला,गैरोली,मठोली,रतूड़ा,बणगांव,चूलाकोट,धारकोट,घंडियाल,बैनीताल,ऐरवाडी,चूला-गबनी,खोला,डिम्मरआदिगांवोंसहितकपीरीवचांदपुरपट्टीमेंसालोंसेबंदरवजंगलीसुअरोंकाआतंकहै।बंदरऔरजंगलीसुअरकिसानोंकीफसलोंकोनुकसानपहुंचारहेहैं।लेकिनवनविभागइसओरलापरवाहबनाहुआहै।वहींगुलदारवभालूकीधमकसेग्रामीणशामहोतेहीघरोंमेंदुबकनेकोविवशहैं।ग्रामीणोंकाकहनाहैकिगुलदारदिनदहाड़ेगांवकीसीमासेलगेजंगलोंमेंघूमरहेहैं,जिससेमहिलाओंकाजंगलसेचारापत्तीलानाखतरेसेखालीनहींहै।वहींस्कूलीबच्चोंमेंभीदहशतकामाहौलहै।इसीतरहनगरक्षेत्रकर्णप्रयागवगौचरमेंउत्पातमचातेबंदरोंसेनिजातकेलिएपालिकाववनविभागकोईकार्रवाईनहींकररहाहै।उत्पातीबंदरआएदिनमठ-मंदिरोंमेंदर्शनकोजानेवालेश्रद्धालुओंपरझपटरहेहैं।(संसू)