कानपुर में बूंद-बूंद से रीचार्ज कर डाला सूखा कुंआ, रेन वाटर हार्वेस्टिंग की पेश की मिसाल

कानपुर,[शैलेन्द्रत्रिपाठी]।जलहैतोकलहै।जलकेबिनाजीवनकीकल्पनाहीअसंभवहै।इसीसोचकोअंगीकारकररेलवेस्टेशनसरसौलनिवासीवर्मापरिवारसमाजकोबड़ीसीखवमहत्वपूर्णसंदेशदेरहाहै।दसपरिवारअपनीछतोंवबाहरकेबारिशकेपानीकोसंरक्षितकररहेहैं।प्राचीनकुएंकासदुपयोगकरतेहुएउन्होंनेउसकोरेनवाटरहार्वेस्टिंगमेंइस्तेमालकरलियाहै।बारिशकापूरापानीपाइपद्वाराइसीकुएंमेंभूमिगतकरदियाजाताहैजिससेउनकेघरवआसपासपानीकास्तरकमनहींहुआबल्किकुछनकुछबढ़ताहीरहताहै।

रेलवेस्टेशनसरसौलनिवासीराजेन्द्रवर्मा,शिवकुमारवर्मा,अवधेशवर्माअपनेपूरेपरिवारसहितएकसाथरहतेहैं।सामूहिकरूपसेसभीदसपरिवारअलग-अलगघरोंमेंरहतेहैं।सभीघरोंकीछतेंएकसाथजुड़ीहुईहैं।अवधेशवर्माबतातेहैंकिकरीबदससालपहलेपूरेपरिसरकेबीचमेंबनाकुआंसूखगया।हैंडपंपपानीछोडऩेलगेतोचिंताहुईकिजलकेबिनातोजीवनसंकटमेंहोजाएगा।अवधेशकेबड़ेभाईराजेन्द्रवशिवकुमारवर्मानेसुझावदियाकिक्योंनइससूखेकुएंकोवाटररीचार्जकास्रोतबनालियाजाए।सभीघरोंकीछतोंकेपानीकोएकजगहसेनीचेलानेकेलिएपाइपडालागया।इसकेबादकुएंकेबगलसेएकपाइपनीचेतकडालकरउसकाकनेक्शनकुएंसेजोड़ागया।पाइपद्वाराहीछतोंकेपानीकोकुएंतकपहुंचायाजानेलगा।इसकेअलावाघरकेबाहरकेपानीकोभीपाइपद्वारालाकरकुएंतकपहुंचायाजानेलगा।

अवधेशवर्माबतातेहैंकिबारिशकेपानीकोसहेजनेकेसुखदपरिणामदोसालमेंहीदिखाईदेनेलगे।पहलेकीअपेक्षालगभगपांचफिटजलस्तरबढ़गया।अबतोकभीभीहैंडपपपानीनहींछोड़ता।सबमर्सिबलभीपूरीक्षमतासेपानीदेरहाहै।अवधेशवर्मानेबतायाकिघरवआसपासमें50फिटकेअंदरहीपानीमिलजाताहै,जबकिगांवसेआधाकिमीहटकरउनकेट्यूबवेलकाजलस्तरलगभगअस्सीफिटपरहै।वर्मापरिवारकीलोगोंसेअपीलहैकियदिलोगखुदजागरुकहोकरअपनेघरोंसेबारिशकेपानीकोसंरक्षितकरनेकीशुरुआतकरदेंतोकमसमयमेंचमत्कारिकपरिणामसामनेआएंगे।