कारगर साबित हो रहा है नदियों पर बना सीरीज चेकडैम

रमना:प्रखंडकेसुखड़ा,कजरी,बांकीवबुढ़वानदीपरबनेसीरीजचेकडैमजलसंरक्षणके²ष्टिकोणसेमीलकेपत्थरसाबितहोरहेहैं।इननदियोंपरबनेचेकडैमसेजहांभूगर्भजलस्रोतरिचार्जहोरहाहै,वहींआसपासकेसैकड़ोंएकड़भूमिमेंलगीफसलोंकीसिचाईकरयहांकेकिसानखेतीसेआमदनीकरआर्थिकरूपसेमजबूतबनरहेहैं।प्रखंडकेविभिन्ननदियोंपरपंद्रहवर्षोंमेलगभगदसकरोड़कीलागतसेकईसीरीजचेकडैमकानिर्माणलघुसिचाईविभागद्वाराकरायागयाहै।कभीबरसातमेंइननदियोंकापानीबेकारबहजाताथावगर्मीमेंसूखकरनदियांसपाटमैदानबनजातीथीं।चेकडैमबननेकेबादसालोंभरइननदियोंमेंपांचसेसातफीटतकपानीजमारहताहै।इसकेसाथहीकभीड्राईजोनकेरूपमेंचिह्नितमड़वनियां,जुड़वनियां,कोरगा,बहियारकला,मंगरा,बुल्कासमेतकरीबदोदर्जनगांवोंमेचेकडैममेंजमापानीकेकारणजलस्तरऊपरआयाहै।गर्मीकेदिनोंमेंभीहैंडपंपऔरकुआंमेंअबसालोंभरपानीदिखाईपड़ताहै।आजइसीपानीकाउपयोगकिसानअपनीफसलोंकोसिचितकरनेकेलिएकररहेहैं।कोरगाकेअजयसिह,बुल्काकेयोगेंद्रसिंह,सिलीदागमंगराकेअजयरामआदिग्रामीणोंकाकहनाहैकिनदीपरबनाचेकडैमभूमिगतजलस्तरकोबढ़ानेमेंमहत्वपूर्णभूमिकानिभारहाहै।अगरइनचेकडैमकेअधूरानिर्माणकार्यपूराहोजातातोइसकालाभप्रखंडकेअन्यगांवोंकेकिसानोंकोभीमिलपाता।येचेकडैमजलसंरक्षणकेदिशामेंउपयोगीसिद्धहुएहैं।इसकेसाथ-साथकृषिपरआधारितलोगभीखेती-बारीकरकेसमृद्धहोरहेहैं।