कुनबा बिखरने से रोक नहीं पा रही कांग्रेस, एमपी की सत्ता हाथ से निकलना शिखर नेतृत्व को चुनौती

संजयमिश्रनईदिल्ली। मध्यप्रदेशकीसत्ताहाथसेनिकलनेकेसाथएकबारफिरसाबितहोगयाहैकिराज्योंमेंअपनेकुनबाबिखरनेकासिलसिलाकांग्रेसनेतृत्वथामनहींपारहाहै।दिलचस्पयहहैकिपार्टीचाहेसूबेकीसत्तामेंरहीहोयाविपक्षमेंविधायकोंकोअपनेपालेमेंबनाएरखनाउसकेलिएमुश्किलचुनौतीबनगईहै।कुनबाबिखरनेकीवजहसेमध्यप्रदेशसमेतदोराज्योंमेंकांग्रेसकोहालकेवर्षोमेंसत्तासेबाहरहोनापड़ाहैवहींदोसूबोंमेंसबसेबड़ादलहोनेकेबावजूदसत्ताउसकेहाथसेफिसलगई।

सिंधियाकीनाराजगीकमलनाथऔरदिग्गीराजाकोपड़ीभारी

कांग्रेसकीसूबोंमेंलगातारगंभीरहोतीयहचुनौतीजाहिरतौरपरपहलेसेहीदबावमेंघिरेपार्टीनेतृत्वकीमुसीबतोंमेंऔरइजाफाकरेगा।मध्यप्रदेशकीघटनाइसलिहाजसेकांग्रेसकेशिखरनेतृत्वकेलिएअबतककासबसेबड़ाझटकाहैक्योंकिसियासीशतरंजकीबिसातपरपार्टीयहांअपनेदोबड़ेधुरंधरदिग्गजोंकेरहतेहुएभीमातखागई।मुख्यमंत्रीकमलनाथऔरपूर्वमुख्यमंत्रीदिग्विजयसिंहकोसूबेकीसियासतहीनहींराष्ट्रीयस्तरपरकांग्रेसकेबड़ेरणनीतिकारोंमेंगिनाजातारहाहै,लेकिनअपनेविधायकोंकोबचानेकीकसौटीपरदोनोंहीनकेवलफेलरहेबल्किकांग्रेसकीराष्ट्रीयस्तरपरबनीचुनौतीमेंऔरज्यादाइजाफाकरदियाहै।मध्यप्रदेशजैसेबड़ेराज्यमेंकांग्रेस15सालबादसत्तामेंलौटीथीमगरकमलनाथऔरदिग्गीराजाकीजोड़ीज्योतिरादित्यसिंधियाकीनाराजगीकोहल्केमेंलेनेकीभूलकरबैठी।

विधायकोंकाकुनबाबिखरनेकेचलतेकांग्रेसकर्नाटककीगठबंधनसरकारसेहाथधोबैठीथी

मध्यप्रदेशसेपहलेपिछलेसालमईमेंअपनेविधायकोंकाकुनबाबिखरनेकेचलतेकांग्रेसकर्नाटककीगठबंधनसरकारसेहाथधोबैठी।कांग्रेसकेदिग्गजपूर्वमुख्यमंत्रीसिद्धारमैयाकेहीकरीबीदर्जनभरसेअधिकपार्टीविधायकोंनेबिल्कुलइसीतर्जपरबगावतकरकुमारस्वामीकीअगुआईवालीकांग्रेस-जेडीएसकीसरकारगिरादी।वहांभीसत्ताकीबाजीभाजपानेमारली।मध्यप्रदेशकेअलावाअभीराज्यसभाकेहोनेवालेचुनावसेपहलेगुजरातमेंभीकांग्रेसकेपांचविधायकोंनेइस्तीफादेकरउसेतगड़ाझटकादेदियाहै।इसकदमसेगुजरातकीदूसरीराज्यसभासीटकांग्रेसकेलिएजीतनाबेहदमुश्किलहोगयाहै।जबकिमध्यप्रदेशमेंसत्तागंवानेकेसाथहीवहांकीएकराज्यसभासीटभीकांग्रेससेछीनजाएगी।

बिखरतेकुनबेकोसंभालनाकांग्रेसकेलिएचुनौती

मध्यप्रदेश,कर्नाटकऔरगुजराततोकांग्रेसकीऐसीचुनौतियोंकेताजाउदाहरणहैं।बीतेतीनसालोंमेंआधादर्जनसेअधिकराज्योंमेंकांग्रेसअपनेबिखरतेकुनबेकोसंभालनेकीचुनौतीसेरूबरूहोतीरहीहै।2017मेंगोवाकेचुनावमें17सीटजीतनेकेबादभीकांग्रेसकोसत्तानहींमिली।जबकिभाजपाने13सीटकेसाथजोड़-तोड़करसरकारबनालीऔरफिरएक-एककरकांग्रेसकेतीनविधायकोंनेपालाबदललिया।मणिपुरमेंभीकांग्रेसको28सीटेंमिलींजोबहुमतसेकेवलतीनकमथीं।लेकिनयहांभी21सीटोंकेबूतेभाजपानेसरकारबनालीऔरफिरकांग्रेसकेकुछविधायकटूटकरउसकेसाथआगए।इसतरहमध्यप्रदेशऔरगुजरातकेताजाघटनाक्रमोंसेएकबारफिरसाबितहोगयाहैकिनेतृत्वकीलंबेसमयसेजारीदुविधाराज्योंमेंकांग्रेसकीजमीनकोकमजोरकररहीहै।