मामौर झील बनी किसानों के लिए मुसीबत

मामौरझीलबनीकिसानोंकेलिएमुसीबत

शामलीी,जागरणटीम।मामौरझीलकीक्षतिग्रस्तमेड़10दिनबादभीप्रशासनदुरूस्तनहींकरासकाहै।इसकेचलतेकिसानोंकीफसलबर्बादहोरहीहै।करीब500बीघाभूमिमेंझीलकागंदापानीभराहुआहै।किसानबेबसहैं।खेतोंसेपानीनिकालनेकीजद्दोजहदहै,बावजूदइसकेजिम्मेदारबेपरवाहबनेहुएहैं।गत26अप्रैलकोमामौरगांवमेंस्थितझीलकीमेड़टूटगईथी,जिसकारणकिसानोंकीकरीबपांचसौबीघाभूमिमेंझीलकापानीभरगयाथा।झीलकेपानीसेईंखवधानकीफसलकेअलावाभूसेकेलिएछोड़ेगएगेंहूकेअवशेषभीपूरीतरहजलमग्नहोगएथे।इससंबंधमेंकिसानोंकीओरसेप्रशासनकोसूचनादीगईथी।मौकेपरलेखपालभीपहुंचेथे।इसकेबावजूदपिछले10दिनोंसेझीलकीमेड़ज्योंकीत्योंटूटीहुईहैऔरझीलकापानीखेतोंमेंनिरंतरभरताजारहाहै।किसानअपनेखेतोंमेंभरापानीनिकालतेहुएपूरीतरहऊबचुकेहैं।वहीं,किसानपानीकीरोकथामकेलिएमिट्टीकेबोरेभीलगारहेहैं,लेकिनसफलनहींहोरहेहैं।किसानोंकीपीड़ाकोलेकरजिम्मेदारोंकोकोईसरोकारनहींहै।किसानविनोदकाकहनाहैकिहलकालेखपालदोबारखेतोंमेंभरेपानीकानिरीक्षणकरचुकेहैं,लेकिनसमस्याजसकीतसबनीहुईहै।वहीं,फिलहालजगदीश,बिलेन्द्र,विनोद,खिला,नेपाल,भाषा,सतीश,नरेश,विकास,बिशम्बर,पीरू,ईशाक,वसी,इमरान,यूसुफ,जनेश्वर,यशपालआदिकिसानोंकीईंखवधानकीफसलमेंपानीभराहुआहै।इसमेंकुछखालीपड़ीभूमिभीशामिलहै,जिसकारणकिसानआगामीफसलकीतैयारीभीनहींकरपारहेहैं।मामलेकेसंबंधमेंएसडीएमसंदीपकुमारकाकहनाहैकिझीलकीमेड़पक्कीकरानेकेप्रयासकियेजारहेहैं।प्रस्तावजिलामुख्यालयपरभेजागयाथा।वहांसेस्वीकृतिमिलतेहीझीलकेबांधकोमजबूतकराएजानेकीप्रक्रियाशुरूकीजाएगी।वहस्वयंभीस्थितिकाजायजालेनेकेलिएमौकेपरजाएंगे।