मानव श्रृंखला को ले सक्रिय होने लगे गांवों के लोग

अरवल:आगामी21जनवरीकोहोनेवालीमानवश्रृंखलाकोलेकरजिलाप्रशासनद्वारानित्यप्रतिदिनप्रचारप्रसारकेकार्यक्रमकिएजारहेहैं।जिसकासकारात्मकप्रभावगांव,गवईकेलोगोंकेपरदेखाजारहाहै।गौरतलबहोकिप्रदेशकीसरकारद्वाराशासनप्रशासनकेअलावाविभिन्नतरहकेसरकारीगैरसरकारीएजेंसियोंद्वाराप्रचारप्रसारकाजोकार्यक्रमचलायाजारहाहैइनसबोंकाएकहीउद्देश्यमानवश्रृंखलाकोशतप्रतिशतसफलबनानाहै।बीतेवर्षइसप्रदेशकीसरकारद्वाराशराबबंदीकोलेकरमानवश्रृंखलाकानिर्माणहुआथा।उसवक्तभीआमलोगोंकासहयोगसरकारकोप्राप्तहुआथा।पहलेतोशराबबंदीकोलोगमखौलउड़ायाकरतेथे।लेकिनजबइसकाअसरप्रत्येकघरोंमेंपड़नेलगातोइसकामतलबसमझमेंआया।पहलेजोव्यक्तिशाममेंशराबलेकरजाताथाआजवहीव्यक्तिशराबकीजगहपरसब्जीलेकरआरहाहै।यहसबपरिवर्तनहुआशराबबंदीकेबाद।गांवकीमहिलाएंकोयहकहतेहुएसुनाजारहाहैकि,दहेजउन्मूलनरोकनेकाप्रयाससरकारकीहीनहींहोनीचाहिए।यहहमलोगोंकीसमस्यासेजुड़ाहै।सरकारकायहप्रयासनिश्चिततौरपरहमलोगोंकेकल्याणकेलिएहोरहाहै।ऐसीस्थितिमेंहमलोगोंको21जनवरीकेदिनसभीकार्यकोछोड़करसरकारकेइसकाममेंसहयोगकरनाचाहिए।जिसतरहइसमानवश्रृंखलाकेलिएआमलोगोंकाखासकरमहिलाओंकासहयोगमिलरहाहै,उससेएकबातसाफदिखताहैकिदहेजबंदीएवंबालविवाहकेलिएसभीलोगोंकासहयोगमिलनातयहैचाहेवहअमीरहोयागरीब।