मद्रास हाई कोर्ट ने जयललिता की वसीयत या उत्तराधिकारी का पता लगाने का आदेश दिया

चेन्नैमद्रासहाईकोर्टनेआयकरविभागसेयहपतालगाकरकोर्टकोबतानेकेलिएकहाहैकिक्यापूर्वमुख्यमंत्रीजेजयललिताकीकोईवसीयतयाकानूनीउत्तराधिकारीहै।जस्टिसहुलुवडीजीरमेशऔरजस्टिसकल्याणसुदंरमकीबेंचनेविभागकीओरसेदाखिलकीगईउसयाचिकापरसुनवाईकरतेहुएआदेशदिया,जिसमेंआयकरअपीलीयअधिकरणकेएकफैसलेकोचुनौतीदीगईथी।ट्राइब्यूनलनेसंपत्तिकरकमिश्नरकेरिविजनऑर्डरकोहटातेहुए2,255दिनकीदेरीकोमानलियाथा।बेंचनेविभागकेसीनियरस्टैंडिंगकाउंसिलटीआरसेंथिलकुमारसे26सितंबरसेजानकारीलेनेकेलिएकहाहै।यहमामला1997-98केदौरानजयललिताकीसंपत्तिसेजुड़ाहै।संपत्तिकेआकलनमेंअंतरपहलेविभागने27मार्च2000कोउनकीसंपत्ति4.67करोड़बताईथी,लेकिनबादमेंडायरेक्टरेटऑफविजिलेंसऐंडऐंटी-करप्शनकीजांचमेंपताचलाकिसोनेऔरचांदीकेजेवरोंकीकीमत3.83करोड़कीजगह1.85करोड़आंकीगईथी।साथहीपोजगार्डनस्थितउनकेघरकेनिर्माणमेंलगाएगए58.52लाखरुपये,हैदराबादमेंफार्महाउसकेनिर्माणमेंलगे11.72लाखरुपयेऔरउनकीकुछगाड़ियोंकाआकलननहींकियागया।आयकरविभागनेदीचुनौतीबादमेंअसेसमेंटकोरिवाइजकियागया,जिसकेखिलाफजयललितानेट्राब्यूनलमें2,255दिनकेबादअपीलकी।ट्राइब्यूनलनेदेरीकेबावजूदअपीलकोस्वीकारकरलिया।इसकेखिलाफविभागनेकोर्टनेट्राब्यूनलकेफैसलेकोरदकरनेकीअपीलकीहै।अपीलमेंकहागयाहैकिट्राइब्यूनलनेरिविजनकेऑर्डरकोरद्दकरकेगलतीकीहै।विभागनेकहाहैकिमामलाहाईकोर्टमेंहोनेकेकारणट्राइब्यूनलइसेरद्दनहींकरसकता।साथहीविभागने2,255दिनकीदेरीकोसुप्रीमकोर्टकेफैसलेकेखिलाफबतायाहै।इसखबरकोअंग्रेजीमेंपढ़ें।