मेरठ: जर्जर पेड़ों को लेकर नींद में सरकारी अमला, कभी भी हो सकता है बड़ा हादसा

मेरठ,जागरणसंवाददाता।बिजलीबंबाबाईपासरोडपरसुपरटेकग्रीनविलेजकेगेटकेपासएकपेड़सालभरसेसूखाखड़ाहै।बिजलीबंबाबाईपासरोडसे24घंटेवाहनगुजरतेहैं।सूखेपेड़केनीचेसेबिजलीलाइनभीगुजररहीहै।इसकेअलावाकईपेड़ोंकीशाखाएंसड़कपरआगईहैं।यहएकउदाहरणमात्रहै।शहरकेमार्गोपरइसतरहकेबहुतसारेजर्जरपेड़हैं,जोकभीभीहादसेकाकारणबनसकतेहैं।सोमवाररातआईआंधीकेदौरानयेसंकेतमिलचुकेहैं।बावजूदइसकेविडंबनादेखिएकिजिम्मेदारविभागअबभीनींदमेंहैं।

जर्जरपेड़ोंकोलेकरलापरवाहनगरनिगम,वनऔरजिलाउद्यानविभाग

मंगलवारकोनगरनिगम,वनविभागऔरजिलाउद्यानविभागमेंजर्जरपेड़ोंकोलेकरकोईहलचलनहींदिखी।कहींजर्जरपेड़ोंकाचिह्नंकनशुरूनहींकरायागया।जबकिगर्मीमेंतेजआंधीकादौरशुरूहोचुकाहै।सोमवाररातचलेअंधड़मेंगंगानगरकेमुख्यमार्गपरडिफेंसकालोनीकेगेटकेपासएकगुलमोहरकापेड़गिरगया।इसीतरहसिविललाइंसऔरसदरबाजारमेंपेड़ोंकीशाखाएंबिजलीकेतारोंपरगिरीं।अगरयेपेड़दिनमेंगिरतेतोबड़ाहादसाहोसकताथा।

सर्किटहाउसकाहादसानहींभूलेलोग

पूर्वमेंसर्किटहाउसकेसामनेएकपेड़गिरनेसेजिलाउद्यानअधिकारीकीमौतहोगईथी।पेड़उनकीजीपपरगिरगयाथा।यहहादसालोगभूलेनहींहैं।

गतवर्षआबूनालेकिनारेकाटेगएथे143पेड़

गतवर्षभाजपाकेपूर्वप्रदेशअध्यक्षडा.लक्ष्मीकांतबाजपेयीकीपहलपरआबूनालेकिनारेखतरनाकढंगसेझुकेपेड़ोंकासर्वेकरायागयाथा।वनविभागकीअनुमतिकेबाद143जर्जरपेड़ोंकोकटवायागयाथा।

वनविभागकोजर्जरपेड़ोंकीसूचनाकिसीनेनहींभेजी

वनविभागकेअधिकारियोंकीमानेंतोनगरनिगम,एमडीएऔरआवासविकासपरिषदकेअपनीभूमिपरपेड़हैं।जर्जरपेड़ोंकीजानकारीवनविभागकोनहींदीगई।जर्जरपेड़काटनेकेलिएवनविभागसेअनुमतिलेनीहोतीहै।कोईपेड़निजीपरिसरमेंलगाहैऔरभूस्वामीकोलगताहैकिवहगिरसकताहैतोउसेकाटनेकोभीवनविभागसेअनुमतिलेनीहोतीहै।

ग्रामीणइलाकोंमेंफलदारपेड़ोंकासर्वेकिसानोंकीमांगपरकियाजाताहै।शहरमेंलगेवृक्षमेरेअधिकारक्षेत्रमेंनहींहैं।

भूपेंद्रकुमार,निरीक्षकउद्यानविभाग

पिछलेवर्षसर्वेआबूनालेकिनारेकेपेड़ोंकोचिह्न्तिकरकटवायागयाथा।इसबारजर्जरपेड़ोंकाकोईसर्वेनहींकियागयाहै।

सुनीलसोम,प्रभारीउद्यान,नगरनिगम

वर्तमानमेंवनविभागकेपासऐसीकोईसूचीनहींहै,जिसमेंसार्वजनिकस्थलोंपरलगेऐसेवृक्षोंकाविवरणहोजिससेजान-मालकीहानिहोनेकीसंभावनाहो।

राजेशकुमार,डीएफओ