मोदी की जीत: यूपी में अजेय दिख रहा सपा-बसपा-रालोद महागठबंधन क्यों हारा?

सत्रहवींलोकसभाकेनतीज़ेआचुकेहैंऔरमोदीकेनेतृत्वमेंबीजेपीऔरराष्ट्रीयजनतांत्रिकगठबंधनकोभारीबहुमतमिलाहै.

विपक्षीपार्टियोंकेलिएयेनतीजेभलेचौंकानेवालेरहेहोंलेकिनविश्लेषकइसेएक्ज़िटपोल्सकेमुताबिकहीमानरहेहैं.

पिछलेलोकसभाचुनावोंमेंजिसउत्तरप्रदेशनेबीजेपीकोकेंद्रकीसत्तातकपहुंचाया,सपा-बसपा-रालोदकेमहागठबंधनकीचुनौतीकेबावजूद62सीटेंजीतनेमेंकामयाबरही.

यहांतककिअमेठीकीपरम्परागतसीटसेकांग्रेसकेराष्ट्रीयअध्यक्षराहुलगांधीकोभीहारकामुंहदेखनापड़ाऔरकेरलकेवायनाडसेभीचुनावलड़नेकेउनकेफैसलेपरतबबीजेपीनेजोतंजकसाथा,वोहकीक़तबनगया.

उत्तरप्रदेशमेंबीजेपीको62सीटें,उसकीसहयोगीअपनादलकोदो,बसपाको10,समाजवादीपार्टीको5औरकांग्रेसकोएकसीटमिलीहै.

लेकिनयूपीमेंकुछदिनपहलेहीलोकसभाउपचुनावमेंअजेयबनकरउभरामहागठबंधनइसबारक्योंउम्मीदकेमुताबिकप्रदर्शननहींकरपाया?

स्मृतिईरानी:मोदीविरोधीअनशनसेराहुलकाकिलाभेदनेतकनरेंद्रमोदी-महासमरकामहारथी

महागठबंधनपरदबावथा?

वरिष्ठपत्रकाररामदत्तत्रिपाठीकहतेहैं,"बीजेपीकेबरक्सयूपीमेंविपक्षीखेमाशुरूसेहीबंटाहुआथा,सपा-बसपाकीमुख्यप्रतिद्वंद्विताकांग्रेससेथी,वोदोनोंनहींचाहतेथेकियहांसेकांग्रेसमजबूतहो.गठबंधनमेंकांग्रेसकोशामिलनकरनेमेंयेभीएककारणरहाहै."

उनकेअनुसार,गठबंधनकेलिएकांग्रेसयूपीमेंछहसीटोंतककेलिएतैयारहोगईथीलेकिनसपाबसपानेमनाकरदियाऔरबहुतहड़बड़ीमेंगठबंधनकीघोषणाकरदीगई.

कांग्रेसकोमहागठबंधनमेंशामिलनकरनाअखिलेशऔरमायावतीकीबड़ीभूलथीयामज़बूरीशायदइसकासाफ़साफ़जवाबनहींमिलपाएलेकिनरामदत्तत्रिपाठीकाकहनाहै,"येतोज़ाहिरहैकिलोगोंकोडरानेकेलिएसीबीआईऔरईडीकाभरपूरउपयोगकियागयाऔरछापेभीडालेगए,नकेवलयूपीमेंबल्किबाहरभी."

उनकेअनुसार,"लालूयादवकोजेलभेजदियागयाऔरउन्हेंज़मानततकनहींमिली.इससेबाकीनेताओंमेंएकसंदेशगया.यहीवजहथीकिजिननेताओंकोपिछलेचारपांचसालोंमेंआक्रामकतरीकेसेसक्रियहोनाचाहिएथा,वोऐनचुनावकेदौरानसक्रियहुएऔरवोभीबेमनसे."

वोकहतेहैंकिपिछलीबारसर्वसमाजकोइकट्ठाकरनेकेलिएबसपानेस्थानीयस्तरपरभाईचाराकमेटियांबनाईथीं,लेकिनइसबारइसकामौकाहीनहींमिला.दूसरीतरफ़अखिलेशयादवखुदअपनेपारिवारिकझगड़ेकोहलनहींकरपाए.

वोकहतेहैं,"बीजेपीनेएकबहुतसीमितजनाधारवालीपार्टीअपनादलकोदोसीटेंदींजबकिसपाबसपानेकांग्रेसकेलिएयहांदोसीटेंहीदेनाचाहतीथी,इसेकहींसेभीसमझदारीनहींकहाजासकता."

नतीजे2019:उत्तरप्रदेशऔरपश्चिमबंगालमेंक्याचलरहाहै?बीजेपीकोसत्ताकेशिखरपरपहुंचानेवालेअमितशाह

वोकहतेहैं,"अगरकांग्रेसकेसाथमहागठबंधनहोतातोशायदसूरतकुछऔरहोती.लेकिनइससेबड़ीबातयेहैकिपिछलालोकसभाचुनावऔरयेचुनावभीक्षेत्रीयकीबजायराष्ट्रीयमुद्दोंपरलड़ागया.अगरऐसानहींहोतातोराजस्थान,मध्यप्रदेशमेंजहांकांग्रेसकीसरकारेंहैंयाओडिशामेंजहांनवीनपटनायककीसरकारहै,वहांभीसंसदीयचुनावोंमेंबीजेपीआगेहै."

यूपीसेमहागठबंधनकेअलावाकांग्रेसकोभीउम्मीदेंथीं,लेकिनयहांअमेठीकीअपनीपरम्मपरागतसीटसेखुदकांग्रेसअध्यक्षराहुलगांधीहारगए.येचौंकानेवालाहै.

यूपीमेंमहागठबंधनकाबुराप्रदर्शनऔरकांग्रेसका'बहुतबुराप्रदर्शन'देशकीभावीराजनीतिकेलिएकईसंकेतछोड़गयाहै.

चुनावीविश्लेषकभावेशझाकेअनुसार,"वायनाडसेराहुलगांधीकेचुनावलड़नेकेफैसलेकाअसरकेरलऔरतमिलनाडुमेंदेखाजासकताहै,जहांकांग्रेसकाप्रदर्शनसबसेबेहतररहा.बीजेपीनेआरोपलगायाकिराहुलहारकेडरसेदक्षिणचलेगएऔरउसनेइसेमुद्दाभीबनादिया.दूसरीओरस्मृतिईरानीहारनेकेबादभीपांचसालतकबनीरहीं,जबकिराहुलआत्मविश्वासकीवजहसेअमेठीबहुतनहींजापाए.ज़ाहिरहैइनसबचीजोंनेअसरडाला."

मोदीकेसामनेक्योंनहींटिकपायाविपक्ष?#ElectionResults2019:मतदानसेनतीजेतक,चुनावकेदौरानक्या-क्याहुआ?

वोकहतेहैं,"येचुनावमोदीकोलेकरजनतमतसंग्रहजैसाथाऔरइसकाअसरकमोबेशउनजगहोंपरदिखाहै,जहांबीजेपीकास्थानीयढांचामौजूदथा.अगरयेकहेंकिमोदीकीलहरथी,जिसेबहुतसेविश्लेषकदेखनहींपाए,तोअतिशयोक्तिनहींहोगी."

वोकहतेहैं,"आनेवालेपांचसालकांग्रेसकेलिएबहुतचुनौतीपूर्णहोंगे.उसकेबहुतसेनेतापहलेहीहारचुकेहैंयापार्टीबदलचुकेहैं.क्षेत्रीयक्षत्रपवैसेभीखालीहोगएथे."

उत्तरप्रदेशपरविपक्षकीबहुतसारीउम्मीदेंटिकीथींवहांमहागठबंधनकीगणितबिखरगई.

पहलेकहाजारहाथाकिकांग्रेसबीजेपीकेवोटबैंककोहीनुकसानपहुंचारहीहै,लेकिननतीजोंमेंकुछऔरहीदिखा.

रामदत्तत्रिपाठीकहतेहैंकियूपीकेसंसदीयउपचुनावोंमेंबीजेपीकीहारइसलिएहुईक्योंकिस्थानीयनेताओंसेबीजेपीकेवोटरनाराज़थेऔरवोवोटदेनेनिकलेहीनहीं.इसकेअलावास्थानीयमुद्दोंपरयेचुनावलड़ागया.

लेकिनइसचुनावमेंबीजेपीअपनेवोटरोंकोबाहरनिकालनेमेंसफलरहीऔरचुनावीमुद्दाभीराष्ट्रीयस्तरपरथा.

रामदत्तत्रिपाठीकेअनुसार,यूपीमेंमहागठबंधनकीहारकीएकबड़ीवजहहैगैरयादवओबीसीजातियोंऔरगैरजाटवदलितजातियोंमेंइनकाप्रभावनहोना.

पिछलेकुछसालोंमेंबीजेपीकोइसबातकाएहसासहोगयाथाकिव्यापकहिंदूलामबंदीमेंसपाबसपाजैसेकुछबाधाएंहैंइसलिएउन्होंनेगैरयादवगैरजाटवजातियोंकोसंगठितकियाउन्हेंनेतृत्वमेंहिस्सेदारीदी.

राजनीतिकविश्लेषकबद्रीनारायणकाकहनाहैकिआरएसएसनेपिछले25-30सालोंसेगैरजाटवदलितसमुदायोंकेबीचकाफ़ीकामकियाहै.उत्तरप्रदेशमेंक़रीब66दलितजातियांहैं.इनमेंक़रीबचारपांचजातियोंकोतोबहुजनराजनीतिऔरसरकारोंमेंप्रतिनिधित्वमिलालेकिनशेषजातियांछूटीरहीं.

उनकेअनुसार,इनशेषजातियोंमेंबीजेपीऔरआरएसएसनेबहुतव्यस्थिततरीकेसेकामकिया,जैसेइनजातियोंकासम्मेलनआयोजितकरना,इनकेहीरोतलाशना,उनकीपहचानकोउभारना.येसबकरतेहुएबीजेपीनेइन्हेंहिंदुत्वकेफ़्रेममेंरखा.

'बेटागयातोमेरागया,सरकारकाक्यागया?'उत्तरप्रदेश:'येकौनसाक़ानूनहैजोग़रीबोंकीजानलेरहाहै'

इसतरहबीजेपीनेएकऐसासामाजिकसमीकरणतैयारकियाजिसमेंगैरजाटवदलितजातियोंकाएकबड़ाहिस्सापासीजातिकेनेतृत्वमेंबीजेपीकेपासगयाहै.

इसीतरहबीजेपी-आरएसएसनेगैरयादवपिछड़ीजातियोंकेबीचकामकिया.इनमेंभी40-45जातियांहैं.इनमेंभीयादवकेसामनेजोजातिखड़ीहोसकतीहैजैसेकुर्मी,मौर्या,कुश्वाहाकेनेतृत्वमेंबीजेपीनेअतिपिछड़ीजातियोंकोलामबंदकिया.

इसतरहबीजेपीनेसपा-बसपाविरोधीएकबड़ासामाजिकगठबंधनबनायाहैऔरजातिराजनीतिकोजातिराजनीतिनेहीऐसाधाराशायीकियाकिइसकीकल्पनानहींकीजासकतीहै.

बद्रीनारायणकेअनुसार,सपाबसपाकेवोटशेयरमेंकमीनहींआईलेकिनबीजेपीकावोटशेयरबढ़ाहैऔरयेइन्हींजातियोंकेकारणसंभवहुआहै.

ठीकयहीमाननाहैरामदत्तत्रिपाठीका,"बीजेपी,आरएसएसऔरउनकेअनुषांगिकसंगठनोंनेजनताकेबीचजिसतरहकासमानांतरजुड़ावकायमकररखाहै,वैसाकिसीभीविपक्षीदलकेपासनहींहै."

वोकहतेहैं,"बीजेपी-आरएसएसनेअन्यजातियोंमेंऐसीभावनाभरीकिउनकारिज़र्वेशनभीयादवऔरजाटवजातियांख़त्मकररहीहैं.बेशकइनबातोंकाचुनावोंपरभीअसरपड़ाहै."