मोरनी को रास आया लॉकडाउन

महेंद्रसिंहमेहरा,सिरसा:भादवकामहीनापक्षीप्रेमियोंकेसुखदखबरलेकरआयाहै।भगवानश्रीकृष्णकेअतिप्रियमानेजानेवालेमोरकाप्रजननबढ़रहाहै।राजस्थानसीमाकेसाथलगतेगांवगुडियाखेड़ावधोलपालियाकोमोरोंनेअपनाआश्रयस्थलबनायाहै।लॉकडाउनकेचलतेस्कूलबंदहै।यहशांतमाहौलमोरोंकोखूबरासआरहाहै।मोरोंकेजोड़ेयहांदेखेजारहेहैं।इसशांतवातावरणमेंमोरनीनेयहांपरअंडेदेनेशुरूकरदिएहैं।जीवजंतूएवंवन्यप्राणीविभागइनपरपैनीनजरलगाएहुएहैं।विभागनेयहांपरदेखरेखकेलिएड्यूटीलगाईगईहैताकिमोरनीकेअंडोंकोकोईक्षतिनपहुंचादें।-मोरोंकीसंख्याबढ़नेमेंलगाविभाग

अबवहदिनदूरनहींजबजिलेमेंभीबरसातहोनेपररंग-बिरंगेपंखोंवालीमोरनियांनाचतीनजरआएंगी।साथहीउनकीसंख्यामेंभीवृद्धिभीहोगी।जिलेमेंअभीकरीब100मोरहै।जीवजंतूएवंवन्यप्राणीविभागद्वारासंख्याबढ़ानेपरध्यानदियाजारहाहै।जिलेमेंवर्ष2000मेंमोरोंकीसंख्याकरीब500थी।अबलॉकडाउनमेंप्रजननहोनेसेसंख्याबढ़ेगी।विभागद्वाराआगेभीसंख्याबढ़ानेपरध्यानदियाजाएगा।

अधिकारीकररहेहैंनिरीक्षण

एकबारमेंमोरनी5से7अंडेदेतीहै।अंडासेनेऔरबच्चोंकेपरवरिशकीजिम्मेदारीअकेलेमोरनीकीहीहोतीहै।अंडेसेचूजेनिकलनेमें25से30दिनलगतेहै।गांवगुडियाखेड़ावधोलपलियामेंमोरनीनेअंडेदिएहैं।विभागकेअधिकारीसमय-समयपरगांवमेंजाकरनिरीक्षणकररहेहै।इसकेसाथजहांपरमोरहै,विभागद्वाराउनकीदेखरेखकीजारहीहै।जिससेमोरोंकीसंख्याबढ़ाईजासके।---बहुतअच्छालगा

गांवमंगालानिवासीपक्षीप्रेमीतरसेमसिंहगांवगुडियाखेड़ामेंपहुंचा।विभागकेअधिकारियोंकेसाथपरवरिशकररहीमोरनीकोदेखा।उन्होंनेकहाकिबहुतअच्छालगारहाहै।राष्ट्रीयपक्षीमोरकीहमेंरक्षाकरनीचाहिए।----

लॉकडाउनमेंमोरनीकोशांतवातावरणपसंदआरहाहै।गांवगुडियांखेड़ाकेसरकारीस्कूलमेंमोरनीनेअंडे़दिएहैं।इसकेसाथगांवधोलपलियामेंमोरोंकीसंख्याबढ़ीहै।विभागद्वारायहांपरदेखभालकीजारहीहै।जिलेमेंमोरोंकीसंख्याबढ़ानेकेलिएविशेषध्यानदियाजारहाहै।

-लीलूराम,निरीक्षक,जीवजंतूएवंवन्यप्राणीविभाग,सिरसा।