मृत्युभोज पर भारी भरकम खर्च का औचित्य नहीं

सुपौल।मृत्युभोजएकसमाजिकबुराईहै।अपनेपरिवारकोखोनेकादुखऔरऊपरसेमृत्युभोजपरभारीभरकमखर्चकाकोईऔचित्यनहींहै।मृत्युभोजकासामाजिकबहिष्कारहोनाचाहिए।उक्तबातेंछातापुरप्रखंडअंतर्गतराजेश्वरीभगवतीहाटगोचरमेंराजेश्वरीपूर्वीपंचायतकेमुखियाधर्मदेवप्रसादयादवकीअध्यक्षताएवंडॉ.अशोकआनंदकेसंचालनमेंआयोजितजनचेतनासभाकोसंबोधितकरतेहुएलोहियायूथब्रिगेडकेप्रदेशसंयोजकडॉ.अमनकुमारनेकही।कहाकिगलतसामाजिकएवंधार्मिकपरंपरानिभाते-निभातेगरीबऔरगरीबहोताजारहाहै।मृत्युभोजकेकारणगरीबआर्थिकबोझकेतलेदबरहाहै।शराबबंदीकानूनकेतरहमृत्युभोजप्रतिबंधकोलेकरभीराज्यसरकारकोकानूनबनानाचाहिए।हिन्दूधर्ममेंमुख्य16संस्कारबनाएगएहैं।जिसमेंप्रथमसंस्कारगर्भाधानएवं16वांवअंतिमसंस्कारअंत्येष्टिहैतो17वांसंस्कारतेरहवींकाभोजकहांसेआगया।श्रेष्ठमानवअपनेसाथी,सगे-संबंधीकेमृत्युपरविभिन्नप्रकारकेपकवानवव्यंजनखाकरशोकमनानेकाढोंगरचताहै।इससेशर्मनाकबातक्याहोसकतीहै।संपन्नपरिवारमृत्युभोजकेजगहगरीबोंकेबीचठंडमेंकंबलकावितरणकरें।समाजकेलिएएम्बुलेंस,पुस्तकालय,विवाहभवनआदिदेनेकाकामकरें।गरीबोंकेसंतानकोगोदलेकरउच्चशिक्षाप्रदानकरानेकाकार्यकरें।बेटीकोगोदलेकरउच्चशिक्षादिलातेकन्यादानकरें।यहसबसेबड़ापुण्यकाकामहै।इससेसमाजशिक्षितऔरविकसितहोगा।जनचेतनासभामेंउपसरपंचश्यामसुंदरमेहता,कर्मदेवयादव,रामवतारयादव,दिलीपयादव,सुभाषयादव,रामचन्द्रयादव,सुरेन्द्रयादव,जगदेवयादव,विजेन्द्रयादव,बेचनयादव,पुरुषोतममेहता,नवलकिशोरमेहता,कुलदीपमेहता,रामविलाससाह,श्याममंडल,रमेशयादव,प्रमोदराम,सुनीलयादव,रामबहादुरयादव,मनोजकुमारदास,रानादेवी,जयमालादेवी,आनंदीशर्मा,कृत्यानंदयादव,परिमलकुमारयादवआदिउपस्थितथे।