मुजफ्फरपुर पेयजल संकट, अभी नहीं हुए सजग तो सूख जाएंगे शहरवासियों के हलक

मुजफ्फरपुर,जागरणसंवाददाता।जिसतरहशहरवासीजमीनसेपानीनिकालबर्बादकररहेहैंवहसमयदूरनहींजबभू-जलकासंचितभंडारसमाप्तहोजाएगा।इसलिएहमअभीसजगनहींहुएतोआनेवालेदिनोंमेंशहरवासियोंकेहलकसूखजाएंगे।शहरीक्षेत्रमेंतेजीसेहोरहेभू-जलकेदोहनकोरोकनेकीजगहनगरनिगमअनदेखीकररहाहै।जबकिआनेवालेसमयमेंजबपानीनहींमिलेगातोशहरकेनागरिकसबसेपहलेनिगमकोहीअपनानिशानाबनाएंगे।इसलिएनिगमकोसचेतहोजानाचाहिए।जमीनसेपानीनिकालनेकेलिएनियम-कानूनबनाकरसख्तीसेलागूकरनाचाहिए।

रविवारकोदैनिकजागरणकेसहेजलोहरबूंदअभियानकेदौरानबातचीतमेंसमाजकेप्रबुद्धलोगोंनेयेबातकहीं।सामाजिककार्यकर्ताअङ्क्षरजयराजनेकहाकिजिसतेजीसेशहरमेंसबमर्सिबलपंपलगाएजारहेहैंवेजलसंकटकाकारणबनेंगे।नगरनिगमअभीइसपरध्याननहींदेरहाहै,लेकिनजबइसकेकारणपेयजलसंकटउत्पन्नहोगातबउन्हेंसमझमेंआएगीलेकिनतबतकबहुतदेरहोचुकाहोगा।अरुणकुमारठाकुरनेकहाकिपहलेशहरमेंइतनेपोखरएवंतालाबथेकिसालोंपरशहरकाभू-जलस्तरबनारहताहै,लेकिनअबऐसानहींहै।पोखरएवंतालाबनाममात्रकेरहगएहै।इसकेकारणअबभूजलस्तरगिरनेलगाहै।संजीवकुमाररंजननेकहाकिशहरबूढ़ीगंडकनदीकिनारेबसाहै।इसकेपानीसेजमीनरीचार्जहोताहै,लेकिनहमनेनदीकोभीनहींछोड़ा।शहरकागंदापानीबिनाउपचारसीधेनदीमेंप्रवाहितकियाजारहाहै।नदीमेंकूड़ा-करकटडालनेसेभीलोगबाजनहींआरहेहैं।इसप्रकारनदीहमसेदूरहोतेजारहीहै।इसकाखामियाजाभीहमेंआगेभुगतनापड़ेगा।संगीताकुमारीनेकहाकिहमजरूरतसेज्यादापानीकादोहनकरउसेबर्बादकरदेतेहैं,इसेरोकनाहोगा।जितनाजरूरीहैउतनाहीपानीजमीनसेनिकलनाहोगा।