नगरोटा शिव व लक्ष्मी नारायण मंदिर के वजूद पर संकट

सहयोगी,पद्धर:जमीनधंसनेसेद्रंगहलकेकेनगरोटास्थितऐतिहासिकशिववलक्ष्मीनारायणमंदिरकाअस्तित्वकभीभीखत्महोसकताहै।17वींसदीमेंबना300सालपुरानायहमंदिरगिरनेकीकगारपरहै।ग्रामीणोंनेमंदिरकेजीर्णोद्धारकोलेकरआवाजउठातेहुएमामलापुरातत्वऔरजिलाभाषाएवंसंस्कृतिविभागतकपहुंचायाहै।पुरातत्वविभागनेयहांआकरप्राचीनधरोहरकेसाथकोईछेड़छाड़नकरनेकीनसीहतग्रामीणोंकोदेडाली।उसकेबादकोईकार्रवाईतकअमलमेंनहींलाईगई।मंदिरकेजीर्णोद्धारकेलिएतमामदस्तावेजवऔपचारिकतापूरीकरप्रदेशसरकारऔरदोनोंविभागोंकोभेजीगईहैं।

लेकिनपुरातत्वऔरभाषाएवंसंस्कृतिविभागकीअनदेखीसेऐतिहासिकधरोहरोंकावजूदखतरेमेंहै।मंदिरकेजीर्णोद्धारपरपुरातत्वविभागभीकुछनहींकररहा।इनकीदीवारोंपरदरारेंआगईहैं।घासवझाड़ियांउगनाशुरूहोगईहैं।जमीनधंसनेसेमंदिरकेभीतररखीप्राचीनमूर्तियोंकोभीनुकसानपहुंचचुकाहै।मंदिरकेरखरखावकेलिएकुछलोगोंनेपहलभीकीथी।मंदिरकोसरकारीसंपत्तिबताकरउन्हेंनोटिसथमारखरखावपररोकलगादीहै।

पुरातत्वविभागभीप्राचीनमंदिरकेरखरखावपरआंखेंमूंदचुकाहै।समयरहतेविभागनेमंदिरकारखरखावनहींकियातोप्राचीनधरोहरकाइतिहासमहजकागजोंतकहीसीमितरहजाएगा।

उधर,समाजसेवीसंजयशर्मानेकहाप्रदेशसरकारवपुरातत्वविभागऐतिहासिकधरोहरकीअनदेखीकररहाहै।मंदिरकेजीर्णोद्धारकेलिएवहग्रामीणोंकेसाथलड़ाईलड़ेंगे।

मामलाध्यानमेंहै।स्थानीयमंदिरकमेटीकीसिफारिशपरमंदिरकेजीर्णोद्धार,मरम्मतकार्यवरखरखावकोलेकरतमामदस्तावेजउच्चअधिकारियोंकोसौंपेगएहैं।पर्याप्तबजटप्रावधानहोतेहीमंदिरकाजीर्णोद्धारकियाजाएगा।

रेवतीसैनी,जिलाभाषाएवंसंस्कृतिअधिकारीमंडी