नहीं थम रही है मछलियों के मरने की समस्या, जानें क्यों पानी में ही मर जाती हैं मछलियां

बेंगलुरू,एएनआइ।देशभरसेझीलोंमेंमरीहुईमछलियोंकीखबरेंदिन-प्रतिदिनबढ़रहीहैं।आमतौरपरइसप्रकारकीखबरेंकर्नाटककीझीलोंसेआतीहैं।इसबारभीकर्नाटककीशीलावंतानकेरेझील(Sheelavantanakerelake)मेंमरीहुईमछलियोंकेपाएजानेकीखबरसामनेआईहै।इसकेबादसेआस-पासकेलोगहैरानहैं।ऐसापहलीबारनहींहुआहै।इसतरहकीघटनाएंपहलेभीहोचुकीहैं।कर्नाटककेअलावाभीकईराज्योंसेऐसीखबरेंआचुकीहैं।तोआइएजानतेहैं,आखिरलगातारमछलियोंकेमरनेकीवजहक्याहै,औरइसकेक्यासमाधानहोसकतेहैं।

ऑक्सीजन कीकमीसेहोतीहैमछलियोंकीमौत

कईरिपोर्टोंमेंसामनेआचुकाहैकिनदियों,झीलोंऔरतालाबोंकेपानीकेगंदाहोनेकेकारणउनमेंऑक्सीजनकीकमीहोजातीहैऔरइसकीवजहसेमछलियांमरनेलगतीहैं।पानीमेंऑक्सीजनकीकमीकीकईवजहेंहोसकतीहैं।इसकाएककारणतोयहबतायाजाताहैकिमछलियोंकेव्यावासायिकउत्पादनकेलिएछोटीजगहपरज्यादामछलियांपाललीजातीहैं।लगातारप्रजननकीवजहसेउनकीतादातभीबढ़जातीहै।ऐसाहोनेपरमछलियांकोसांसलेनेमेंतकलीफहोनेलगतीहै।यहीवजहहैकिज्यादातरमछलियांपानीमेंमरीहुईमिलतीहैं।

गंदेपानीकेचलतेहोतीहैमौत

दूसराकारणतालाबमेंपानीकागंदाहोनाबतायाजाताहै।कुछरिपोर्टकेमुताबिककईनदियोंकागंदापानीझीलकेपानीसेमिलजाताहै।इससेप्रदूषणकास्तरबढ़जाताहै,जिससेमछलियांपानीमेंसांसनहींलेपातीहैं।

जहरकेचलतेभीहोतीहैंमौत

कुछरिपोर्टकीमानेंतोकुछव्यवसायीअसंवैधानिकतरीकेसेमछलियोंकोपकड़नेकानामकरतेहैं,जिसकेचलतेकईलोगोंमेंआपसीझड़पभीहोतीहै।इससेपरेशानहोकरयेलोगपानीमेंजहरघोलदेतेहैं।जिससेमछलियोंकीमौतहोजातीहै।

औधोगिकप्लांट लगानेसेहोतीहैमौत

इसकेअलावाएकवजहयहभीमानीजातीहैकिइनझीलोंकेपासकईऔद्योगिकप्लांटलगजातेहैं।इससेकाफीमात्रामेंकेमिकलऔरप्रदूषणपानीमेंजाताहै,जोमछलियोंकेलिएहानिकारकहोताहै।इसकेचलतेभीकाफीसंख्यामेंमछलियोंकामौतहोतीहै।

बचावकेलिएकरनेहोंगेयेकाम

इसकेअलावाअनेककारणहैंजिसकेचलतेमछलियोंकीमौतपानीमेंहीहोजातीहै,सरकारकीतरफसेसभीकेतरहकेप्रयासकिएजातेहैं,लेकिनपानीमेंजीनेवालीमछलियोंकीपानीमेंहीमौतबंदनहींहोरही।इसकेसाथहीअगरमानवहीकुछचीजोंकाख्यालरखेंतोवहइसतरहसेमछलियोंकेमौतकोरोकसकतेहैं।सबसेपहलेतोहमेंअपनेजलस्रोतों,तालाबोंऔरनदियोंको साफरखनाचाहिएऔर उन्हेंप्रदूषितहोनेसेबचानाचाहिए।यहहमारेअपनेअस्तित्वऔरमछलियोंकेलिएभीबेहदजरूरीहै।

यहभीपढ़ें: संदिग्धहालमेंमरींमछलियां