नई पद्धति : अब धरती की प्यास बुझा रहे सालों से सूखे पड़े हैंडपंप

हरिओमगौड़,श्योपुर।भूजलस्तरघटनेकेकारणसूखचुकेहैंडपंपोंसेएकबूंदपानीनहींनिकलता।देशभरमेंऐसेसूखेहैंडपंपोंकोमुंहचिढ़ातेहुएदेखाजासकताहै।लेकिनआपसेयदियहकहाजाएकियहीहैंडपंपधरतीकोलाखोंलीटरपानीलौटासकतेहैं,तोसुनकरअचंभाहोगा।श्योपुर,मध्यप्रदेशकेआदिवासीविकासखंडकराहलकेचारगांवोंमेंऐसाहोतेहुएदेखाजासकताहै।इनचारगांवोंके11सूखेहैंडपंपऔरदोकुएंजमीनकेअंदरबारिशऔरगांवसेउपयोगकेबादनिकलनेवालेदूषितपानीकोफिल्टरकरकेजमीनकेअंदरपहुंचारहेहैं।इसकानतीजायहहुआकिक्षेत्रकाभूजलस्तरलौटआया।गांवमेंजोहैडपंपऔरकुएंसूखेपड़ेथे,उन्होंनेपानीदेनाशुरूकरदिया।

दरअसल,आदिवासीबहुलग्रामीणक्षेत्रोंकेविकासकेलिएकामकरनेवालेश्योपुरकेगांधीसेवाआश्रमनेजर्मनीकीसंस्थाजीआइजेडऔरहैदराबादएफप्रोसंस्थाकेसाथमिलकरसबसेपहले2016मेंयहप्रयोगकराहलकेडाबली,अजनोई,झरेरऔरबनारगांवमेंकिया।यहगांवइसलिएचुनेगएक्योंकियहांकेअधिकांशहैडपंपसूखचुकेथे।इनगांवोंमेंअंधाधुंधबोरइसतरहहुएथेकिदोबीघाखेतमेंआधादर्जनबोरथे।नतीजतनगांवोंकाभूजलस्तरगर्तमेंजासमायाथा।गांवकेसभीजलस्रोतसूखगए।इधर,पिछलेकुछसालोंसेहोरहेइसप्रयोगकाअसरयहहुआकिबारिशकेसीजनकेबादअजनोई,डाबली,झरेरऔरबनारगांवकीबस्तियोंकेआसपासकेवहसूखेहैंडपंपपानीदेनेलगेजोदससालसेसूखेपड़ेथे।

इंजेक्शनपद्धतिसेऐसेपहुंचाजमीनमेंपानी

इसपद्धतिकोइंजेक्शनपद्धतिकहाजाताहै।जर्मनीकीसंस्थानेश्योपुरसेपहलेइसकासफलप्रयोगगुजरातऔरराजस्थानकेसूखेइलाकोंमेंकियाथा।इसपद्धतिकेतहतहैंडपंपकेचारोंओरकरीब10फीटगहरागड्ढाखोदाजाताहै।हैंडपंपकेकेसिंगपाइपमेंजगहजगहएकसेडेढ़इंचव्यासके1200से1500 छेदकिएजातेहैं।इसीपाइपकेजरिएपानीजमीनमेंजाताहै।इससेपहलेपानीकोसाफकरनेकेलिएगड्ढेमेंफिल्टरप्लांटभीबनायाजाताहै।इसफिल्टरप्लांटमेंबोल्डर,गिट्टी,रेतऔरकोयलेजैसीचीजेंपरतदरपरतजमाईजातीहैं।इनसेछननेकेबादहीबारिशकापानीहैंडपंपकेछेदयुक्तपाइपतकपहुंचताहै।पाइपपरभीजालीदारफिल्टरलगायाजाताहै।इसतरहबेहदकारगररेनवाटरहार्वेस्टिंगसिस्टमतैयारहोजाताहै।

एकसूखाहैंडपंप4लाखलीटरपानीलौटारहाधरतीको...

सूखेहैंडपंपकोजलस्रोतरीचार्जयूनिटबनानेमें45हजारकाखर्चआयाहै,लेकिनइसकाफायदाबहुतबड़ाहै।अबयहखराबहैंडपंपएकसालमेंसाढ़ेतीनसेचारलाखलीटरपानीजमीनकेअंदरपहुंचारहाहै।रिकार्डकेअनुसारएकसामान्यहैंडपंपसेहरसाल3लाख60हजारलीटरतकपानीनिकालाजाताहै।यानीखराबहैंडपंपउतनाहीपानीजमीनमेंवापसभेजरहाहै,जितनाएकसहीहैंडपंपजमीनसेखींचरहाहै।

इसेइंजेक्शनपद्धतिकहतेहैं।इसकेतहतवर्षाजलऔरउपयोगमेंलाएजाचुकेपानीकोफिल्टरकरजमीनकेअंदरपहुंचायाजाताहै।एकसूखाहैंडपंपइतनापानीजमीनकोलौटाताहै,जिनतादूसराहैडपंपजमीनसेखींचलेताहै।

-सत्यनारायणघोष,सोशलसाइंटिस्ट,

जीआइजेडसंस्था

श्योपुर,मप्रकेबनार,अजनोई,डाबलीऔरझरेरगांवकेअधिकांशबोरऔरकुएंसूखचुकेथे,इसलिएइनगांवोंमेंयहप्रयोगकियागया।परिणामोंसेबेहदखुशीहै,सूखेहैंडपंपोंकेरेनवाटरहार्वेस्टिंगसिस्टममेंतब्दीलहोजानेकेकारणहीदूसरेसूखेहैंडपंपअबपानीदेरहेहैं।

-जयसिंहजादौन,प्रबंधक,गांधीसेवा