‘नये भारत’ में ‘कर आतंकवाद’ ने ली सीसीडी संस्थापक की जान: कांग्रेस

नयीदिल्ली,31जुलाई(भाषा)कांग्रेसनेबुधवारकोआरोपलगायाकिमोदीसरकारकेशासनमें‘‘‘करआतंकवाद’’नेकैफेकॉफीडे(सीसीडी)केसंस्थापकवीजीसिद्धार्थकीजानलेली,जिनकाशवबुधवारकोकर्नाटकमेंनेत्रावतीनदीकेकिनारेमिला।सिद्धार्थ(59)कीमौतनेकारोबारजगतकोस्तब्धकरदियाहै।दरअसल,उनकीमौतकेबारेमेंतरह-तरहकीअटकलेंलगाईजारहीहैं।एकओरजहांपुलिसइसेप्रथमदृष्टयाआत्महत्याकेतौरपरदेखरहीहै,वहींदूसरीओरआयकरअधिकारियोंकीप्रताड़नाकोउनकीकथितआत्महत्याकाएकसंभावितकारणबतायाजारहाहै।कांग्रेसकेमुख्यप्रवक्तारणदीपसुरजेवालानेट्वीटकिया,‘‘व्यापारकरनेमेंसहूलियतकाअंत,‘करआतंकवाद’नेएकऔरजानली,न्यूइंडिया।’’कांग्रेसनेताअभिषेकमनुसिंघवीनेप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीपरउनलोगोंकेसाथविश्वासघातकरनेकाआरोपलगाया,जिन्होंनेउन्हेंमजबूतएवंनिर्बाधअर्थव्यवस्थाकेलिएवोटदियाथा।उल्लेखनीयहैकिकथिततौरपरसिद्धार्थद्वारालिखेगएपत्रमेंउन्होंनेआयकरविभागपरप्रताड़ितकरनेकाआरोपलगायाहै।हालांकि,विभागनेआरोपोंसेइनकारकियाहै।कांग्रेसनेसिद्धार्थकीमौतकेलिएजिम्मेदारकारणोंपरचर्चाकेलिएलोकसभामेंस्थगनप्रस्तावकानोटिसभीदिया।सिंघवीनेट्वीटकरकहा,‘‘एकपुरानीधारणारहीहैकिसरकारकाकारोबारजगतमेंकोईकामनहींहैऔरमोदीने2014सेपहलेअपनेचुनावप्रचारमेंइसबारेमेंबड़ी-बड़ीबातेंकीथीं।आजउन्होंनेउनलोगोंकेसाथविश्वासघातकियाहै,जिन्होंनेउन्हेंमजबूत,स्वतंत्रऔरनिर्बाधअर्थव्यवस्थाकेलिएवोटकियाथा।’’सिंघवीनेएकअन्यट्वीटमेंकहा,‘‘फिरसेनिर्वाचितहोनेकेबादमोदीनेबहुसंख्यकवाद,अल्पसंख्यकवाद,कश्मीर,पाकिस्तान,मुस्लिममहिला,रामऔरयहांतककि‘मैनवर्सेजवाइल्ड’केजरियेलोगोंकाध्यानभटकानेकीकोशिशकी।लेकिववास्तवमेंकिनचीजोंसे?चरमरातीअर्थव्यवस्था,बढ़तीबेरोजगारी,ढहताहुआआधारभूतढांचा,मरतेकिसान,खराबहोतीकानूनएवंव्यवस्थासे।’’सिद्धार्थकेनिधनपरशोकव्यक्तकरतेहुएकांग्रेसनेताशशिथरूरनेकहाकिउनकीमृत्युने‘‘चिंताजनकप्रवृत्ति’’कोप्रदर्शितकियाहै।’’उन्होंनेकहा,‘‘इजऑफडूइंगबिजनेसभाजपाशासनमें‘इजऑफइंडिगबिजनेस’मेंतब्दीलहोरहीहै।’’कांग्रेसकीकर्नाटकइकाईनेसिद्धार्थकीमौतमामलेकीएकनिष्पक्षऔरउचितजांचकीमांगकी।कांग्रेसकीराज्यइकाईनेसोशलमीडियामेंजारीबयानमेंकहाहैकियहघटनाआयकरअधिकारियोंद्वाराउत्पीड़नऔरभारतकीउद्यमशीलताकीस्थितिमेंगिरावट,करआतंकऔरअर्थव्यवस्थाकेपतनकानतीजाहै।संप्रगकेशासनकालमेंफलने-फूलनेवालीकंपनियांबंदहोगईहैंऔरकईलोगबेरोजगारहोगएहैं।कर्नाटककेपूर्वमुख्यमंत्रीऔरकांग्रेसकेवरिष्ठनेतासिद्धरमैयानेकहाकिसिद्धार्थकीमृत्यु‘‘दुखदऔररहस्यमय’’है।उन्होंनेकहा,‘‘उनकारणोंकेसाथहीउनके(सिद्धार्थके)जीवनकाइसदुखदतरीकेसेअंतकरनेवालेअदृश्यकारणोंकापताएकनिष्पक्षएवंउचितजांचसेचलनाचाहिए।’’कर्नाटककांग्रेसप्रवक्ताब्रजेशकलप्पानेकहाकि‘‘उन्हेंकरआतंकियोंनेनिर्दयतापूर्वकमारडाला।’’