Opinion: झारखंड कांग्रेस का चिंतन शिविर कुनबे को एक रखने की कवायद तो नहीं है?

रांची.गिरीडीहकेमधुवनमेंकांग्रेसकातीनदिवसीयचिंतनशिविरचलरहाहै.चिंतनशिविरदेशकीलोकतान्त्रिकप्रक्रियाकाएकहिस्साहैऔरपार्टियांइसतरहकाआयोजनकरतीरहतीहैं.खासकरकांग्रेसमेंतोइसकीलंबीपरंपरारहीहै।.लेकिनमधुवनमेंचलरहा3दिवसीयचिंतनशिविरकोईसामान्यशिविरनहींहै.जिसपृष्ठभूमिमेंयहशिविरचलरहाहै,वहपृष्ठभूमिइसेविशेषबनारहीहै.

दरअसलपिछलेपखवाड़ेराहुलगांधीनेझारखण्डकेविधायकोंसेमुलाकातकीथीऔरउनसबसेनिजीताल्लुकातबढ़ातेहुएउनकेगिलेशिकवेभीसुनेथे.उसमुलाकातमेंकांग्रेसीविधायकोंनेजमकरअपनीभड़ासनिकालीऔरउसकेबादहीमधुवनकेइसशिविरकीयोजनाबनाईगई.जाहिरहै,राहुलगांधीकोलगाहोगाकिविधायकोंकोयूंहीअसंतुष्टनहींछोड़ाजासकता.इसलिएउन्हेंएकशिविरमेंरखकरउन्हेंथोड़ीऔरभड़ासनिकालनेकामौकादियाजानाचाहिए.

झारखंडकेविधायकोंकीराहुलगांधीसेमुलाकातभीएकविशेषपृष्ठभूमिमेंकराईगईथी.कुछदिनपहलेकांग्रेसकेनेताआरपीएनसिंहकांग्रेसछोड़करबीजेपीमेंशामिलहोगएथे.आरपीएनसिंहहैं,तोउत्तरप्रदेशके,लेकिनपिछलेकुछसालोंसेवेकांग्रेसकेझारखंडप्रभारीथे.इसकेकारणउनकेझारखंडकेकांग्रेसीविधायकोंसेगहरीजानपहचानबनीहुईथी.अनेकतोउन्हींकेकारणविधायकबनेथे,क्योंकिटिकटवितरणमेंआरपीएनसिंहकीप्रमुखभूमिकाथी.लिहाजाआरपीएनसिंहकेकांग्रेसछोड़नेकेबादइसबातकाडरबनाकिकहींझारखंडकेकांग्रेसीविधायकएकमुश्तबीजेपीमेंशामिलनहोजाएं.

यहडरहवाहवाईनहींथा,बल्किइसकेठोसआधारथे.यहीकारणहैकिराहुलगांधीएकाएकहरकतमेंआएऔरसभीविधायकोंकोदिल्लीबुलाडाला.उनकीशिकायतेंसुनी.उनकादर्दजाना.टूटनेकाखतराभीशायदउन्होंनेमहसूसकियाहोगा.इसलिएउन्हेंएकजुटरखनेकेलिएचिंतनशिविरकाआयोजनकरवादिया.दरअसलयहचिंतनशिविरनहीं,बल्किकांग्रेसीविधायकोंटूटनेकीचिंतासेआयोजितएकचिंताशिविरहै.

राहुलगांधीकेसाथमुलाकातमेंविधायकोंनेराज्यसरकारकेखिलाफअसंतोषजाहिरकियाथा.कांग्रेसीविधायकसत्तारूढ़विधायकहैं.उनकेसमर्थनपरहेमंतसरकारटिकीहुईहै.जाहिरहै,उन्हेंभीसत्तामेंहिस्साचाहिए.उनमेंसेकुछमंत्रीभीहैं,लेकिनअधिकांशकोलगताहैकिसत्तामेंहोतेहुएभीवेसत्ताहीनहैं.उनकेइसअहसासकोक्यायहचिंतनशिविरसमाप्तकरपाएगा?यहएकप्रमुखसवालहै.इससेभीबड़ासवालयहहैकिजबयूपीचुनावकेबादबीजेपीआरपीएनसिंहकीसहायतासेइन्हेंतोड़करहेमंतसरकारगिरानेकीकोशिशकरेगी,तोक्यायेविधायककांग्रेसमेंअटूटबनेरहेंगे.

गौरतलबहोकिहेमंतसरकारकेपासअभी49विधायकहैं,जोबहुमतसेसिर्फ7ज्यादाहैं.कांग्रेसकेकुल16+2=18विधायकहैं.उनमेंसेयदि12कोतोड़लियागयातोसरकारअल्पमतमेंआजाएगीऔरगिरजाएगी.इसलिएखतरासिर्फकांग्रेसपरहीनहीं,बल्किहेमंतसरकारपरभीहै.इसलिएकांग्रेसकायहचिंतनशिविरहेमंतसरकारकोबचानेकाचिंताशिविरभीहै.

ब्रेकिंगन्यूज़हिंदीमेंसबसेपहलेपढ़ेंNews18हिंदी|आजकीताजाखबर,लाइवन्यूजअपडेट,पढ़ेंसबसेविश्वसनीयहिंदीन्यूज़वेबसाइटNews18हिंदी|

Tags:Hemantsorengovernment,JharkhandCongress,Rahulgandhi