पानी के बिना अपना वजूद तलाश रहा जलमीनार

अरवल।भलेहीसूबेकीसरकारसातनिश्चययोजनाकेतहतहरघरनलकाजलकोप्राथमिकताकेसाथक्रियान्वयनकरानेमेंलगीहो।लेकिन,जिलामुख्यालयमेंदशकोंपहलेसेलोकस्वास्थ्यअभियंत्रणविभागद्वारासंचालितजलमीनारअबपानीकेअभावमेंअपनावजूदतलाशरहाहै।यहवर्षोसेलोगोंकोपेयजलउपलब्धकरानेमेंअसफलरहाहै।परिणामस्वरुप50हजारगैलनकीक्षमतावालेजलमीनारमहजदिखावाबनकररहगयाहै।विभागऔरअधिकारीदोनोंइसओरध्याननहींदेरहेहैं।नगरपरिषदक्षेत्रमेंसाढ़ेसातकिलोमीटरपाईपलाइनभीबिछाहुआहैऔरकईजगहोंपरनलभीलगेहुएहैं।पहलेइननलसेपानीभीआताथा।लेकिन,इधरजलापूर्तिपूरीतरहसेठपपड़ाहै।जिससेशहरवासियोंकोकाफीपरेशानीकासामनाकरनापड़रहाहै।शहरवासीपेयजलकेलिएअपनेनिजीस्त्रोतोंपरहीनिर्भरहैं।जलमीनारकीस्थितिठीकहैपाइपलाइनभीदुरूस्तहैबावजूदइसकेपानीसप्लाईबंदहै।लोगोंकोपेयजलउपलब्धनहींहोपारहाहै।

सुनेंकार्यपालकअभियंताकी-

लोकस्वास्थ्यअभियंत्रणविभागकेअंतर्गतहै।कुछविभागीयत्रुटिकेकारणपेयजलकीसेवालोगोंकोउपलब्धनहींहोपारहाहै।नगरपरिषदकोस्थानांतरितकरनेकीप्रक्रियाशुरूकियाजारहाहै।शीघ्रहीशहरवासियोंकोइसकालाभमिलनेलगेगा।