फर्जी एनकाउंटर केस में में आठों आरोपी बरी

पटनापटनाउच्चन्यायालयनेआशियानानगरक्षेत्रमें12वर्षपूर्वफर्जीपुलिसमुठभेड़मेंतीनछात्रोंकीहत्याकेमामलेमेंशास्त्रीनगरथानाकेतत्कालीनप्रभारीशम्सआलमतथाआरक्षीअरुणकुमारसिंहसहितआठआरोपियोंकोसंदेहकेलाभकेआधारपरबरीकरदिया।पटनाव्यवहारन्यायालयकेत्वरितन्यायालय(प्रथम)केन्यायाधीशरविशंकरसिन्हाने28दिसंबर2002कोआशियानानगरइलाकेकेएकमार्केटमेंफर्जीमुठभेड़मेंतीनछात्रोंविकासरंजन,प्रशांतसिंहऔरहिमांशुशेखरकीहत्यामामलेमेंपिछलेसाल24जूनकोआलमकोफांसीऔरसिंहकोताउम्रआजीवनकारावासतथाकमलेशकुमारगौतम,राजूरंजन,सोनीरजक,कुमोदकुमार,राकेशकुमारमिश्राऔरअनिलकोउम्रकैदकीसजासुनायीथी।अभियुक्तोंद्वाराइसमामलेमेंपटनाउच्चन्यायालयमेंअपीलदायरकिएजानेपरन्यायमूर्तिवीएनसिन्हाऔरन्यायमूर्तिजितेंद्रमोहनशर्माकीखंडपीठनेसंदेहकेलाभकेआधारपरआजसभीआठोंआरोपियोंकोबरीकरदिया।खंडपीठनेबिहारसरकारकोपीडितमुआवजाकोषसेमृतकछात्रोंकेपरिजनोंकोदस-दसलाखरुपयेमुआवजाकेतौरपरदिएजानेकाभीनिर्देशदियाहै।इनअभियुक्तोंपरएकएसटीडीबिलकीराशिकेभुगतानकोलेकरटेलीफोनबूथआपरेटरऔरइनछात्रोंकेबीचहुईझडपकेदौरानउक्तमार्केटकेअन्यदुकानदारोंकेसाथमिलकरउनकीबुरीतरहसेपिटाईकरनेकाआरोपथा।इसघटनाकेबारेमेंजानकारीमिलनेपरआरक्षीसिंहकेसाथघटनास्थलपहुंचेआलमनेइनछात्रोंकेसिरमेंगोलीमारनेकेबादउन्हेंडकैतकेरुपमेंपेशकियाथा।इसमामलेकीसूचनादेनेवालेमृतकछात्रोंमेंसेएकविकासरंजनकेभाईमुकेशरंजनथे।इसमामलेकीजांचकाजिम्माअपराधअनुसंधानविभागदियागयाजिसेबादमेंसीबीआईकेपासभेजदियागयाथा।कुल33लोगोंनेइसमामलेमेंगवाहीदीथी।इसमामलेमेंआलमवर्ष2003सेजेलमेंबंदथेजबकिबाकीअन्यसातअभियुक्तोंकोअदालतद्वारागत05जूनकोदोषीकरारदिएजानेकेबादउन्हेंगिरफ्तारकरजेलभेजदियागयाथा।