प्रेम पकड़िया में चला था नमक आंदोलन

गोंडा:आजादीकीलड़ाईमेंअहमकिरदारनिभानेवालेगोंडाजिलेमेंकांग्रेसकीनींवलालालाजपतरायनेडालीथी।हरकदमपरउन्होंनेदेशकीआजादीकेलिएलड़ाईलड़नेवालेरणबांकुरोंकेभीतरदेशप्रेमकाजज्बाजगाया।

सन1907मेंगोंडामेंभयंकरअकालपड़ाथा।जमींदारोंकेअत्याचारोंसेखेतिहर,मजदूरोंकोदोजूनकापेटभरपानामुश्किलहोरहाथा।ऐसेमेंलोगअसमयकालकेगालमेंसमारहेथे।जमींदारवसरकारदोनोंउदासीनथे।ऐसेमेंइनकीसहायताकेलिएलालालाजपतरायगोंडाआए।यहांपरवहशहरकेराधाकुंडमेंबाबूश्यामाशरणकेआवासपरठहरे।उन्होंनेसमाजसेवातथाकिसानोंकेहितोंकेलिएकामशुरूकिया।वर्तमानमेंजहांपरआर्यसमाजमंदिरहै,वहांपरलालालाजपतरायनेएकअनाथालयखोलनेकेसाथहीआर्यसमाजकीभीस्थापनाकीथी।देशमेंउनदिनोंकांग्रेसआंदोलनजोरपकड़रहाथा।अधिकांशकांग्रेसीआर्यसमाजकीविचारधाराकेथे।ऐसेमेंलालालाजपतरायकीप्रेरणासेसामाजिकचेतनाकेलिएआर्यसमाजवराजनीतिकगतिविधियोंकेलिएकांग्रेसकीस्थापनाहुई।यहांकेकांग्रेसकेपदाधिकारीअधिवेशनोंमेंहिस्सालेतेथे।वर्ष1919मेंजलियांवालाबागकांडकीप्रतिक्रियायहांदेखनेकोमिली।इसघटनानेयहांपरएकजागरणकीतरहकामकिया।कईनवयुवककांग्रेसमेंशामिलहुए।इसकेबादखिलाफतआंदोलनहोयाअसहयोगआंदोलन,हरआंदोलनमेंजिलेकेयुवाओंनेबढ़चढ़करप्रतिभागकिया।शहरकेप्रेमपकड़ियामैदानमेंनमकआंदोलनचलायागया।-वरिष्ठसाहित्यकारडॉ.सूर्यपाल¨सहकाकहनाहैकिदेशकीआजादीमेंगोंडाकेस्वतंत्रतासंग्रामसेनानियोंनेहरकदमपरलड़ाईलड़ी।राजादेवीबख्श¨सहद्वाराशुरूकीगईस्वाधीनताकीअलखकोआजादीमिलनेतकसेनानियोंनेजगाएरखी।उनकात्यागआजभीयुवाओंकेलिएकिसीप्रेरणास्त्रोतसेकमनहींहै।