रामनगर में ब्रिटिश काल के बने स्नानागार आजाद भारत मेें पड़े हैं बदहाल

जागरणसंवाददाता,रामनगर :सररैमजेने1850मेंरामनगरकोएकतिजारतीमंडीकेरूपमेंबसायाथा।उसदौरमेंनगरमेंनतोपानीकीआपूर्तिथीऔरनहीबिजलीकाइंतजाम।ऐसेमेंलोगकोसीनदीकेपानीपरहीआश्रितथे।ब्रिटिशहुक्मरानोंने1926मेंजबकोसीनदीसेबाढ़कीसुरक्षाकेलिएतटबन्धबनायातोउसीदौरमेंकभीलल्लूघाटकहेजानेवालेस्थानपरदोस्नानागारभीबनायेगएथे।जिनमेंसेएकमहिलाओंऔरएकपुरषोंकेलिएबनायागयाथा।यहींसेनहरोंसेपीनेकापानीभीघरोंकोसप्‍लाईहोताथा।

ब्रिटिशहुक्मरानोंकेदौरमेंबनाएगएस्नानागारकोसीकिनारेआजभीविद्यमानजरूरहै।मगरआजअपनीबदहालीकारोनारोरहेहै।कहाजासकताहैकिगोराेेंनेबसायामगरअपनाेेंनेउसेबिसरादिया।सिंचाईविभागकेआधीनदोनाेेंघाटकभीलल्लूूघाटकेनामसेविख्यातयहस्थानअबकौशल्याघाटकेनामसेजानाजाताहै।महिलास्नानागारतोअबजीर्णअवस्थामेेंपहुंंचचुकाहै।बगलमेंपुरुषाेेंकेलिएबनाघाटबेशकआजभीप्रयोगमेंलियाजारहाहै।परसिंंचाईविभागकेआधीनहोनेकेबादइसकीओरदेखनेवालाकोईनहीहै।सिंंचाईविभागनेइसऐतिहासिकधरोहरकोपूरीतरहउपेक्षितकरदियाहै।

गंदगीसेपटापड़ाहैघाट

कभीलोगोकेलिएनहानेवालेइसघाटकेपानीमेकाईकेअलावाकाफीसंख्यामेंमिट्टी,कचरा,ओरनिस्प्रोजयवस्तुएंपड़ीहै।सफाईकेनामपरकुछभीनही।हैरतयहहैकिबालाजीमंदिरसेसटेहोनेकेबादभीइसकीस्‍वच्‍छताकीओरकिसीकाध्याननहीहै।

पर्वतीयसमाजकेलिएमहत्वपूर्णहैघाट

कौशल्याघाटपर्वतीयसमाजकेलिएकॉफीमहत्वपूर्णहै।पर्वतीयसमाजकेलोगोकेपरिवारकेकिसीब्यक्तियदिमृत्युहोजायाकरतीहैतोपरिजनदसदिनोंतकइसीघाटपरतिलांजलिआदिकार्ययहीकरतेहै।गन्दगीसेपटेइसघाटपरहीउन्हेंतिलांजलिजैसेकार्यमजबूरीमेंकरनेपड़तेहै।मगरबारबारअवगतकरानेकेबावजूदइसघाटकीस्वच्छतापरविभागनेकोईध्याननहीदिया।नशेड़ियोंकाभीअड्डाइसघाटमेंअक्सरचरसगाजापीनेवालेनशेड़ीभीदेखेजासकतेहै।स्थानीयनागरिकअंग्रेजोकेसमयबनायेइनघाटोंकेजीर्णोद्धारकीमांगहरबारकरतेहैमगरविभागइसओरपूरीतरहउदासीनहै।

जागरणनेचलायाथास्वछताअभियान

2016मेंकोसीबचाओअभियानकेतहतदैनिकजागरणनेनकेवलइसघाटकीसफाईजनसहयोगसेकीथी।बल्किरोजशामकोइसघाटपरगंगाआरतीभीशुरूकरवाईथीमगरजनजागरूकताकेआभावमेंयहअभियानपूरीतरहबन्दहोगया।अबचलेगास्वच्छ्ताअभियानसिचाईविभागकेईईकेसीउनियालकहतेहैजल्दइनघाटोंकोसुुंदरऔरस्वच्छबनानेकाअभियानचलायाजाएगा।

UttarakhandFloodDisaster:चमोलीहादसेसेसंबंधितसभीसामग्रीपढ़नेकेलिएक्लिककरें