सैम पित्रोदा ने कहा- रोजगार के गंभीर संकट से गुजर रहा है देश

नईदिल्ली,प्रेट्र। कांग्रेसकीघोषणापत्रसमितिकेसदस्यसैमपित्रोदाकाकहनाहैकिदेशबड़ेरोजगार'संकट'सेगुजररहाहै।रोजगार,रोजगारऔररोजगारकांग्रेसकेप्रचारअभियानकेकेंद्रमेंहोगा।गांधीपरिवारकेलंबेसमयतकसलाहकाररहेऔरइंडियनओवरसीजकांग्रेसकेप्रमुखपित्रोदानेकहा,'कृषिसंकट'भीदेशकेसामनेएकप्रमुखमुद्दाहैऔरइसपरध्यानदेनेकीजरूरतहै।

कांग्रेसकामुद्दाहोगा,रोजगार,रोजगारऔररोजगार

उन्होंनेएकसाक्षात्कारमेंकहाकिप्रियंकागांधीवाड्राकाआमचुनावमें'बड़ाअसर'होगा।जबउनसेपूछागयाकिप्रचारअभियानकेदौरानकांग्रेसकिनमहत्वपूर्णमुद्दोंपरध्यानकेंद्रितकरेगीतोपित्रोदानेकहा,'रोजगार,रोजगार,रोजगार।'उन्होंनेकहा,'देशएकबड़ेरोजगारसंकटसेगुजररहाहै।हमनेनईनौकरियोंकासृजननहींकियाहैबल्किपहलेसेमौजूदरोजगारोंकोहीखत्मकरदियाहै।इसलिएआजएकप्रमुखचुनौतीयहहैकिनईनौकरियोंकासृजनकैसेकियाजाए।'

उन्होंनेकहाकिनोटबंदीऔरजीएसटीजैसेकारकोंसेरोजगारपरअसरपड़ाहै।पित्रोदानेविश्वासव्यक्तकियाकिकांग्रेसविभिन्नराज्योंमेंगठबंधनोंकीप्रक्रियाकोपूराकरेगीऔरइसकेगठबंधनजल्दहीस्पष्टहोजाएंगे।जबउनसेपूछागयाकिक्याकांग्रेसअध्यक्षराहुलगांधीप्रधानमंत्रीबननेकीदौड़मेंप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीसेमेलखारहेहैंतोउन्होंनेकहाकिवहइसमुकाबलेकोदोव्यक्तियोंकेबीचचुनौतीकेरूपमेंनहींदेखतेहैं।

उन्होंनेकहा,'मुझेलगताहैकियहभारतकेविचारोंकेबीचएकचुनौतीहै।यहइसबारेमेंहैकिआपकिसतरहसेदेशकोआगेबढ़ानाचाहतेहैं।'पित्रोदानेकहाकियहविचारधाराओंकीलड़ाईहैऔरयहनफरतकीराजनीतिऔरप्रेमकीराजनीतिकेबीचलड़ाईहै।