शराब मामला, राज्य सरकार से मांगा जवाब

बिलासपुर28फरवरी:भाषा:छत्तीसगढ़मेंराज्यकीशराबनीतिमेंबदलावऔरसरकारीकार्पोरेशनबनाकरशराबबेचनेकेमामलेमेंाीसगढ़उच्चन्यायालयनेराज्यशासनकोनोटिसजारीकरदोसप्ताहमेंजवाबमांगाहै।मामलेकीअगलीसुनवाई21मार्चकोहोगी।शासकीयअधिवक्ताप्रफुल्लभारतनेबतायाकिरायपुरकीसमाजसेवीममताशर्मानेउच्चन्यायालयमेंएकजनहितयाचिकादायरकरकहाहै,सरकारकाकहनाहैकिशराबदुकानोंकाअबठेकानहींदियाजाएगाबल्किसरकारीनिगमबनाकरशराबकीदुकानेसंचालितकीजाएंगी।यहपूरीतरहसंविधानकेअनुच्ेद47केविपरीतहै।इसकेतहतसरकारकोलोकस्वास्थऔरसमाजकल्याणकाध्यानरखनाहै,लेकिनजबसरकारहीशराबबेचनेलगेगीतोइसकाखुलाउल्लंघनहोगा।इसकेसाथहीयाचिकामेंउन्होंनेकहाहैकिअभीनिगमकागठनभीनहींहुआहैऔरसभीनगरीयनिकायोंकोदुकानेंखोलनेकेलिएनिर्देशदेदिएगएहैं।उन्हें10-10लाखरुपएदुकानोंकेनिर्माणकेलिएदिएजारहेहैं,येसभीकार्यनियमोंकेखिलाफहोरहेहैं।ममताशर्मानेबतायाकिवहइसजनहितयाचिकाकीस्वयंपैरवीकरेंगी।उन्होंनेयाचिकामेंउच्चतमन्यायालयकेकुफैसलोंकाहवालाभीदियाहैकिपहलेभीन्यायालयनेाीसगढ़सरकारकीशराबनीतिकेखिलाफटिप्पणियांकीहैं।आजमंगलवारकोउच्चन्यायालयमेंकार्यवाहकमुख्यन्यायाधीशन्यायमूर्तिप्रीतिंकरदिवाकरऔरन्यायमूर्तिसंजयअग्रवालकीयुगलपीठमेंमामलेकीप्रारंभिकसुनवायीहुई।अदालतनेमामलेमेंराज्यशासनकेआबकारीऔरनगरीयप्रशासनसहितसम्बंधितविभिन्नविभागोंकोनोटिसजारीकरदोसप्ताहमेंजवाबमांगाहै।मामलेकीअगलीसुनवायी21मार्चकोहोगी।