सिंधिया मायासिंह तो तोमर-झा बढ़ा सकते हैं समीक्षा का नाम, 57 साल से कांग्रेस नहीं बना सकी है महापौर

ग्वालियरसीटपरलगभगपांचदशकोंसेकांग्रेसमहापौरनहींबनापाईहैं।महापौरपदअनारक्षितहोनेसेसिंधियाकीओरसेपूर्वमंत्रीमायासिंहपहलीपसंदहोसकतीहैं।हालांकिप्रभातझाऔरनरेंद्रसिंहतोमरकीओरसेपूर्वमहापौरसमीक्षागुप्ताकानामभीआगेलायाजासकताहै।इसकीवजहहैग्वालियरकीदक्षिणविधानसभासीट।यहांसेझाऔरतोमरअपनेबेटोंकेलिएसंभावनातलाशरहेहैं।ऐसेमेंसमीक्षागुप्ताहीवेकिरदारहैंजिन्होंनेनिर्दलीयचुनावलड़करतोमर-झाकेबेटोंकीराहकाकांटानिकालदिया।समीक्षाकेयहांसेनिर्दलीयलड़नेसे15सालसेभाजपाविधायकरहेनारायणसिंहकुशवाहहारगएथे।कांग्रेससेसिंधियाकेजानेकेबादतेजीसेउभरींरुचिरायठाकुर,रश्मिपवारकेअलावाहालहीमेंभाजपासेकांग्रेसमेंआकरविधायकबनेसतीशसिकरवारकीपत्नीशोभासिकरवारभीदावेदारहोसकतीहैं।

प्रदेशमें16नगरनिगमकेलिएबुधवारकोआरक्षणप्रक्रियाकोअंतिमरूपदेदियागया।इसमेंग्वालियरनगरनिगममेंइसबारमहापौरकीसीटसामान्यमहिलाकेलिएआरक्षितघोषितकीगईहै।इसीकेसाथभाजपाऔरकांग्रेससेकुछनामभीसोशलमीडियापरआनेशुरूहोगएहैं।अभीतककेमहापौरकेचुनावोंकोदेखाजाए,तोकांग्रेसपरभाजपाभारीरहीहै।

1963मेंथेकांग्रेससेआखिरमहापौर

महापौरचुनावकीबातकरेंतोकांग्रेसइसमेंकाफीपिछड़तीनजरआरहीहै।कांग्रेसकीओरसे57सालपहले1963मेंचिमनभाईमोदीमहापौररहेथे।तबसेलेकरअबतककोईमहापौरनहींबनपायाहै।

1995कारोचककिस्साभीयादआया

1995कारोचककिस्साभीयादआताहै।तबमहापौरकेलिएचुनावअप्रत्यक्षहोताथा।इससाल60वार्डमेंचुनावहुएऔरकांग्रेसबहुमतमेंआई।महापौरकीसीटएससीमहिलाथी।एकभीएससीकीमहिलापार्षदनहींचुनीगईथी।इसपरकांग्रेसनेएकभाजपापार्षदप्रेमलताकोतोड़करमहापौरकाउम्मीदवारबनाया,जबकिभाजपानेअरुणासैन्याकोउम्मीदवारबनाया।कांग्रेससेक्रॉसवोटिंगहुईऔरभाजपाकीअरुणसैन्यानेबाजीमारलीथी।

सन्2000सेप्रत्यक्षचुनावहोरहेहैं

ग्वालियरनगरनिगममेंसन्2000सेप्रत्यक्षचुनावप्रणालीकोअपनायागयाहै।इससेपहलेपरिषदमेंसेहीमहापौरकोअप्रत्यक्षरूपसेचुनाजाताथा।इसकेबादसेअभीतकभाजपाकेहीउम्मीदवारजीततेआएहैं।सन्1995से2000तकविवेकनारायणशेजवलकरमहापौररहेहैं।