उत्तराखंड के नेशनल पार्कों में ड्रोन से होगा वन्यजीवों का दीदार, जानिए शर्त व नियम

देहरादून,केदारदत्त।छहनेशनलपार्क,सातअभयारण्यऔरचारकंजर्वेशनरिजर्ववालेउत्तराखंडमेंअबड्रोनकीनजरसेकुदरतीनजारोंववन्यजीवनकादीदारहोसकेगा।वन्यजीवपर्यटनकोबढ़ावादेनेकेमद्देनजरइनक्षेत्रोंमेंनैनोड्रोन(250ग्रामसेकमवजनी)सेफोटोववीडियोग्राफीकेलिएवनविभागसशर्तअनुमतिजारीकरेगा।विभागनेइसकेलिएदरोंकेनिर्धारणकोशासनसेआग्रहकियाहै।हालांकि,सुरक्षाकीदृष्टिसेअंतर्राष्ट्रीयसीमासेलगेक्षेत्रोंमेंड्रोनकेउपयोगकीइजाजतकिसीभीदशामेंनहींदीजाएगी।

जैवविविधताकेमामलेमेंधनीउत्तराखंडमेंवन्यजीवपर्यटनकोहरसालचारसेपांचलाखसैलानीयहांपहुंचतेहैं।इनमेंभीपर्यटकोंकीपहलीपसंदविश्वप्रसिद्धकार्बेटऔरराजाजीनेशनलपार्कहैं।इसेदेखतेहुएमहकमेनेअन्यसंरक्षितक्षेत्रोंमेंभीपर्यटनकोबढ़ावादेनेकेलिएड्रोनसेफोटोववीडियोग्राफीकेरोमांचकातड़काडालनेकीपहलकीहै।

उत्तराखंडफॉरेस्टड्रोनफोर्सकेसमन्वयकडॉ.परागमधुकरधकातेबतातेहैंकिड्रोनसेएरियलफोटो-वीडियोग्राफीसेआकर्षणबढ़ेगाऔरपर्यटकअन्यक्षेत्रोंकारुखभीकरेंगे।उनकेअनुसारडीजीसीएनेसाफकियाहैकि250ग्रामसेकमवजनीड्रोनकेप्रयोगकोउससेअनुमतिजरूरीनहींहै।

उन्होंनेकहाकितमामअवसरोंपरड्रोनसेफोटो-वीडियोग्राफीकाचलनबढ़ाहै।ऐसेमेंडीजीसीएकीगाइडलाइनकेअनुरूपविभागनेवन्यजीवपर्यटनमेंनैनोड्रोनकीसशर्तअनुमतिदेनेकानिश्चयकियाहै।शासनसेदरोंकानिर्धारणहोनेकेबादहीकदमबढाएजाएंगे।

-100फीटसेअधिकऊंचाईपरनहींउड़ेगाड्रोन।

-ड्रोनकेउपयोगसेवन्यजीवनमेंखललनपड़े।

-सूर्यास्तकेबादड्रोनकेउपयोगकीनहींइजाजत।

-चिहिनतस्थलोंपरहोगीफोटोऔरवीडियोग्राफी।

-अनुमतिलेनेवालेव्यक्तिकोदेनाहोगाअपनापूराब्योरा।

यहभीपढ़ें:उत्तराखंडकेउच्चहिमालयीक्षेत्रमेंपहलीमर्तबागिनेजाएंगेहिमतेंदुए

दुरुपयोगकीभीआशंका

संरक्षितक्षेत्रोंमेंड्रोनसेफोटोऔरवीडियोग्राफीकोलेकरइसकेदुरुपयोगकीआशंकाभीजताईजानेलगीहै।पर्यावरणविद्डॉ.अनिलजोशीकहतेहैंकिवनक्षेत्रोंमेंड्रोनकाप्रयोगसर्वव्यापीनहीं,बल्किकुछेकपाकेटमेंहीहोनाचाहिए।साथहीयेसुनिश्चितहोकिजोफोटोववीडियोशूटहुआहै,वहविभागकीनजरसेगुजरे।हालांकि,ड्रोनफोर्सकेसमन्वयकडॉ.धकातेनेकहाकिनिगरानीकीजिम्मेदारीसंबंधितक्षेत्रोंमेंडीएफओस्तरकेअधिकारीकीहोगी।जोभीफोटोववीडियोशूटहुआहै,उसेपहलेवनविभागकोदिखायाजाएगा।

यहभीपढ़ें:आबादीकेआस-पासहीअपनाठिकानाबनारहेहैंतेंदुए