वायु प्रदूषण से भी जंग लड़ेगा झिलमिल जल शोधन संयंत्र

नईदिल्ली[स्वदेशकुमार]।औद्योगिकक्षेत्रमेंजलप्रदूषणसेनिपटनेकेबादअबझिलमिलस्थितसंयुक्तजलशोधनसंयंत्र(सीईटीपी)अबवायुप्रदूषणकेखिलाफजंगमेंभीउतरनेकीतैयारीमेंहै।दरअसल,नगरनिगमनेहालहीमेंकरीब40वाटरस्प्रिंकलर(पानीकाछिड़काव)मशीनोंकोमैदानमेंउताराहै।येमशीनेंसड़कोंपरपानीकाछिड़कावकररहीहैं।निगमकामाननाहैकिजहांपरभीपानीकाछिड़कावकियाजारहाहै,वहांवायुप्रदूषण30से40फीसदतककमहोरहाहै।येमशीनेंधरातलकेसाथहवामेंभीपानीकीहल्कीबौछारकरतीहैं।इससेकरीबदसमीटरकीऊंचाईतकहवामेंघूमनेवालेकणजमीनपरआजातेहैं।इनमशीनोंकोअबझिलमिलस्थितसंयंत्रसेपानीमिलेगा।

निगमअधिकारियोंकेमुताबिक,इनमशीनोंकोहरदिनकरीबआठसेदसलाखलीटरपानीकीजरूरतहै।यहजरूरतवेलकम,झीलऔरस्वामीदयानंदअस्पतालस्थितजलशोधनसंयंत्रोंसेपूरीनहींहोसकतीहै।पानीकीकमीकोदेखतेहुएझिलमिलजलशोधनसंयंत्रकेचेयरमैनडॉ.अनिलगुप्तासेबातकीगई।उन्होंनेपानीदेनेपरसहमतिदेदीहै।यहसंयंत्रप्रतिदिनकरीब80लाखलीटरपानीशोधितकररहाहै।

इससेफिलहालपीडब्ल्यूडीऔरनिगमकेउद्यानविभागकोपानीदियाजारहाहै।इसकेबादभीकरीब60लाखलीटरपानीबचजाताहै।इसमेंअबआठसेदसलाखलीटरप्रतिदिनइनमशीनोंकोदियाजाएगा।इससेमशीनोंकोपानीकीकिल्लतनहींहोगीऔरसंयंत्रकेपानीभीइस्तेमालहोजाएगा।इसकेलिएनिगमकीतरफसेसंयंत्रकोकोईशुल्कनहींदेनाहोगा।निगमअधिकारियोंकेमुताबिक,एकमशीनकीक्षमताकरीबआठहजारलीटरकीहै।योजनाहैकिएकमशीनकोदोसेतीनफेरेलगवाएजाएं,ताकिहरदिनअधिकसेअधिकसड़कोंपरपानीडालाजासके।गौरतलबहैकिङिालमिलमेंजलप्रदूषणसेनिपटनेकेलिएइससंयंत्रकानिर्माण2004मेंकियागयाथा।

दिल्ली-एनसीआरकीताजाखबरेंपढ़नेकेलिए यहांपरकरेंक्लिक