वन विभाग एक वर्ष में पांच करोड़ कार्यदिवस सृजित करेगा

राज्यब्यूरो,जम्मू:जम्मूकश्मीरमेंवनविभागविभिन्नयोजनाओंकेतहतअगलेएकवर्षकेदौरानपांचकरोड़कार्यदिवससृजितकरेगा।सिर्फयहीनहीं,जम्मूकश्मीरमेंपहलीबारलागूकिएजारहेहरितभारतमिशनकेतहतपूरेप्रदेशमेंवनक्षेत्रबढ़ाने,जैवविविधताकेसंरक्षणऔरकार्बनउत्सर्जनघटानेसहितपारिस्थितिकीतंत्रसेवाओंमेंसुधारलायाजाएगा।यहजानकारीमंगलवारकोमुख्यसचिवडा.अरुणकुमारमेहतानेनागरिकसचिवालयमेंएकउच्चस्तरीयबैठकमेंवनविभागकीगतिविधियोंऔरयोजनाओंकेकार्यान्वयनकीसमीक्षाकेदौरानदी।

नागरिकसचिवालयमेंहुईइसबैठकमेंसंबधितअधिकारियोंनेबतायाकिहरगांवहरियालीयोजनाकेतहतवनविभागने1679पंचायतोंमें20.68पौधेऔर18.27लाखसीडबालवितरितकिएहैं।इकोटूरिज्मकोप्रोत्साहितकरनेकेलिएबंगस,कितरदागी,रेशवारी,भद्रकारी,वेंकुराऔररोसीगलीमेंपैदलमार्ग,शीविरस्थलऔरदिशात्मकवसूचनात्मकसंकेतपटसमेतविभिन्नसुविधाओंविकसितकीहैं।इनकेअलावापूरेप्रदेशमेंवनविभागके48अतिथिगृहोंकोपर्यटकोंकेलिएखोलागयाहै।वन्यजीवसंरक्षणविभागनगरोटा,जम्मूमें62.41करोडरुपयेकीअनुमानितलागतपरजम्मू-कश्मीरकापहलापूर्णचिड़ियाघरविकसितकरनेकेअलावाकिश्तवाड़हाईएल्टीट्यूडनेशनलपार्ककेलिएए0योजनाकोलागूकरनेऔरहंगुल,वाटरबर्डऔरहिमतेंदुएकीजनगणनापरभीकामहोरहाहै।मुख्यसचिवनेइसदौरानहरितभारतमिशनकाजिक्रकरतेहुएबतायाकिइसकेतहतप्रदेशमेंवनक्षेत्रकोबढ़ाने,जैवविविधतासंरक्षण,जलविज्ञानसेवाओंऔरकार्बनपृथक्करणसहितपारिस्थितिकीतंत्रसेवाओंमेंसुधारकीदिशामेंकामकियाजाएगा।इसकेअलावा,वनआधारितआजीविकाआयकोभीबढ़ावादियाजाएगाऔर10हजारपरिवारोंकोवैकल्पिकईंधनऊर्जाप्रदानकीजाएगी।इसमिशनको372.22करोड़कीअनुमानितलागतसेलागूकियाजाएगाऔरयह32,420हेक्टेयरभूमिकोकवरकरेगा।उन्होंनेप्रदेशमेंसभी650वेटलैंडकेसंरक्षणऔरप्रबंघनकेसाथहीवन,मृदासंरक्षण,वन्यजीव,प्रदूषणनियंत्रणबोर्ड,औरसामाजिकवानिकीसहितविभागकेविभिन्नविगोंकेअधिकएकीकरणपरजोरदिया।उन्होंनेवनविभागकोसभी4290पंचायतोंमेंग्रामपंचायतवृक्षारोपणसमितियोंकोसक्रियकरनेऔरक्षेत्रविशिष्टसततविकासकेमाडलविकसितकरनेकेलिएमासिकसंवादकोभीप्रोत्साहितकरनेकेलिएकहा।प्रदूषणकोनिर्धारितसीमाकेभीतररखनेकीआवश्यकतापरबलदेतेहुएउन्होंनेपीसीबीकोटेनरियों,ईंटभट्टों,सीमेंटऔरकीटनाशकोंजैसेप्रदूषणकारीउद्योगोंकीकड़ीनिगरानीकानिर्देशदिया।